Youth icon yi Media logoMegalomania बीमारी से पीड़ित हैं मुख्यमंत्री हरीश रावत : उनियाल 

मै भी अपने ऑफिस जा रहा था मेरी कार भी बस के पीछे चल रही कुछ गाड़ियों के पीछे थी मुझे लगा कि बस ड्राईबर ओबरटेक कर रहा है लेकिन आगे चल रही बस नाली के रैम्प पर चढ़कर एक दुकान से जा टकराई तो हकीकत का पता चला । बस ड्राइबर प्रदीप की हिम्मत व उसकी सूझबूझ को सलाम । * Shashi Bhushan Maithani 'Paras' Youth icon Yi Report

* Shashi Bhushan Maithani ‘Paras’
Youth icon Yi Report
subodh uniyal . Shashi Bhushan Maithani with youth icon Raj rag
जब आप अपने को भी अपनी क्षमताओं से ज्यादा शक्तिशाली और प्रभावशाली मानने लगते हैं तो उस बीमारी के चरम को मैग्लोमीनिया कहा जाता है । और यही बीमारी रावत जी को हो गई है । 
*सुबोध उनियाल, नेता बीजेपी

यूथ आइकॉन Yi मीडिया, 22 नवंबर, हरीश रावत बेहद बीमार व्यक्ति  हैं, हरीश रावत  को बोलने की एक भयानक बीमारी से ग्रसित हो गए हैं,  जिसे मेडिकल साईन्स में Megalomania भी कहा जाता है । सूबे के मुख्यमंत्री को Megalomania बीमारी है, इस बात का जिक्र कांग्रेस के पूर्व विधायक व भाजपा के नेता सुबोध उनियाल ने यूथ आइकॉन मीडिया के साथ हुई टेलिफोनिक वार्ता में किया ।

बताते चलें कि भारतीय जनता पार्टी प्रदेश मुख्यालय देहरादून में आज दोपहर में भी मीडिया से मुखातिब होते हुए बीजेपी नेता सुबोध उनियाल प्रदेश के मुख्यमंत्री  हरीश सरकार पर तीखा प्रहार करते हुए कहा कि उत्तराखंड में रावतों  की सरकार चल रही है, जिसमें गोविंद सिंह कुंजवाल अंपायर हैं, तो कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष किशोर उपाध्याय की हैसियत अंतिम 12 वें खिलाड़ी की मात्र है । जबकि सरकार में सभी मंत्री नॉन प्लेयिंग हैं । सुबोध उनियाल ने कहा कि प्रदेश में रावत टीम के राज में लोकतन्त्र नाम की चीज ही नहीं रह गयी है । साथ ही उन्होने यह भी कहा कि अंपायर कुंजवाल के भरोषे ही रावत टीम है ।

दरअसल बीते कुछ दिनों से सूबे के मुख्यमंत्री  हरीश रावत एक कटाक्ष के तौर पर कांग्रेस से बागी हुए विधायकों को बकरी नाम से

 जबकि मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार सुरेन्द्र कुमार अग्रवाल ने सुबोध उनियाल के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए व्यंगात्मक रूप में कहा कि सुबोध उनियाल के ज्ञान चक्षु खोलने में उनके एक बड़े नेता का हाथ है जिन्होने अपने जमाने में मुंबई में बहुत नाम कमाया है । जहां तक गैरसैण राजधानी की बात है तो बताना चाहूंगा कि यह वही सुबोध उनियाल जी हैं जिन्होने कांग्रेस में रहते हुए भाजपा को इस मुद्दे पर खूब घसीटा था, और तीखे सवाल भी किए थे कि जब राज्य का गठन हुआ तो भाजपा ने राजधानी गैरसैण मे क्यों नहीं स्थापित की ? मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार ने आगे सुबोध उनियाल से सवाल करते हुए कहा कि पहले वह अपनी स्थिति स्पष्ट करें कि उनके किस बयान को जायज माना जाय कांग्रेस मे रहते हुए कोसने वाला या आज भाजपा मे रहते हुए कांग्रेस को कोसने वाला ? सुरेन्द्र अग्रवाल ने कहा कि मुख्यमंत्री हरीश रावत एक योजनाबद्ध तरीके से पहाड़ के विकास के काम में जुटे हैं जिसमें गैरसैण भी शामिल है और यह प्रदेश की जनता भी जानती है । * सुरेन्द्र अग्रवाल मीडिया सलाहाकार, उत्तराखंड मुख्यमंत्री
जबकि मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार सुरेन्द्र कुमार अग्रवाल ने सुबोध उनियाल के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए व्यंगात्मक रूप में कहा कि सुबोध उनियाल के ज्ञान चक्षु खोलने में उनके एक बड़े नेता का हाथ है जिन्होने अपने जमाने में मुंबई में बहुत नाम कमाया है । जहां तक गैरसैण राजधानी की बात है तो बताना चाहूंगा कि यह वही सुबोध उनियाल जी हैं जिन्होने कांग्रेस में रहते हुए भाजपा को इस मुद्दे पर खूब घसीटा था, और तीखे सवाल भी किए थे कि जब राज्य का गठन हुआ तो भाजपा ने राजधानी गैरसैण मे क्यों नहीं स्थापित की ? मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार ने आगे सुबोध उनियाल से सवाल करते हुए कहा कि पहले वह अपनी स्थिति स्पष्ट करें कि उनके किस बयान को जायज माना जाय कांग्रेस मे रहते हुए कोसने वाला या आज भाजपा मे रहते हुए कांग्रेस को कोसने वाला ? सुरेन्द्र अग्रवाल ने कहा कि मुख्यमंत्री हरीश रावत एक योजनाबद्ध तरीके से पहाड़ के विकास के काम में जुटे हैं जिसमें गैरसैण भी शामिल है और यह प्रदेश की जनता भी जानती है ।
* सुरेन्द्र अग्रवाल
मीडिया सलाहाकार, उत्तराखंड मुख्यमंत्री

कई मंचों से पुकार रहे हैं । मुख्यमंत्री का यह सम्बोधन अब बागी हुए नेताओं को भी रास नहीं आ रहा है और आज इसीके  जवाब में कांग्रेस से बागी हुए और वर्तमान में भाजपा के नेता सुबोध उनियाल ने हरीश रावत को एक बीमार व्यक्ति करार देते हुए कहा कि हरीश रावत  को बोलने की एक

जोत सिंह बिष्ट का कहना है कि सुबोध उनियाल जी का यह बदबोलापन भाजपा में अपने वजूद को स्थापित करने की एक चेष्ठा मात्र है । कांग्रेस उपाध्यक्ष जोत सिंह बिष्ट ने कहा कि सुबोध उनियाल भूलने की बीमारी से ग्रसित हैं वो भूल गए की जो मान सम्मान उनके राजनीतिक जीवन में जो उन्हे कांग्रेस से मिला है उसे पाने के लिए वह भाजपा में तरस गए हैं । इसी लिए वह कांग्रेस के नेतावों पर उल-जलूल बयानबाजी कर भाजपा नेताओं की नजर में बनकर अपना अस्तित्व तलाशने का प्रयास कर रहे हैं ।
सुबोध उनियाल जी का यह बदबोलापन भाजपा में अपने वजूद को स्थापित करने की एक चेष्ठा मात्र है । सुबोध उनियाल भूलने की बीमारी से ग्रसित हैं वो भूल गए की जो मान सम्मान उनके राजनीतिक जीवन में जो उन्हे कांग्रेस से मिला है उसे पाने के लिए वह भाजपा में तरस गए हैं । इसी लिए वह कांग्रेस के नेतावों पर उल-जलूल बयानबाजी कर भाजपा नेताओं की नजर में बनकर अपना अस्तित्व तलाशने का प्रयास कर रहे हैं । – जोत सिंह बिष्ट, उपाध्यक्ष उत्तराखंड प्रदेश कांग्रेस कमेटी 

भयानक बीमारी हो गई  है जिसे मेडिकल साईन्स में Megalomania भी कहा जाता है, उनियाल ने बीमारी को परिभाषित करते हुए बताया कि जब आप अपने को भी अपनी क्षमताओं से ज्यादा शक्तिशाली और प्रभावशाली मानने लगते हैं तो उस बीमारी के चरम को मैग्लोमीनिया कहा जाता है । इस बात का जिक्र भाजपा नेता सुबोध उनियाल ने आज शाम को यूथ आइकॉन मीडिया के साथ दूरभाष पर हुई वार्ता में किया साथ ही उन्होने  कहा कि मुख्यमंत्री कभी कहते हैं कि भाजपा के नेताओं को दस्त लग गए हैं, क्या एक मुख्यमंत्री को ऐसी भाषा शोभा देती है ? लेकिन बार-बार मुख्यमंत्री भाषाई गरिमा को तार-तार कर रहे हैं, जिससे साफ हो जाता है कि अब मुख्यमंत्री के पास जनता के सवालों का जवाब देने के लिए कुछ बचा नहीं है ।

सुबोध उनियाल ने कहा कि गैरसैण मसले पर भी हरीश रावत की सच्चाई अब जनता के सामने आ चुकी है । उनियाल ने कहा कि अगर मुख्यमंत्री वाकही ईमानदारी के साथ गैरसैण को राजधानी बनाने के पक्ष में होते तो वह स्वयम निर्णय लेने में सक्षम थे , लेकिन ताज्जुब कि मुख्यमंत्री इस मसले पर भी विपक्ष को दोषी बता रहे हैं जो कि बेहद ही हास्यास्पद है । उनियाल ने कहा कि हरीश रावत ने गैरसैण मसले पर पहाड़ वासियों की भावनाओं से खेला है । सत्र के नाम पर हर बार करोड़ों रुपयों को ठिकाने लगाया और गैरसैण में जाकर हर बार नौटंकी की है ।  अंत में भाजपा नेता ने व्यंग करते हुए कहा  कि मेरी संवेदना मुख्यमंत्री रावत साहब के साथ है, उन्हे मेरी सलाह है कि वह पहले तनाव से मुक्ति पाने के लिए सही चिकित्सीय परामर्श ले लें । जिससे कि उन्हे बेफिजूल में बोलने की बीमारी से भी निजात मिल जाएगी ।

यूथ आइकॉन द्वारा बीजेपी नेता सुबोध उनियाल के बयान के बाद कांग्रेस संगठन व मुख्यमंत्र कार्यालय से जुड़े लोगों से भी प्रतिकृया ली गई, इसी क्रम में कांग्रेस उपाध्यक्ष जोत सिंह बिष्ट कहा  कि सुबोध उनियाल जी का यह बड़बोलापन भाजपा में अपने वजूद को स्थापित करने की एक चेष्ठा मात्र है । कांग्रेस उपाध्यक्ष जोत सिंह बिष्ट ने कहा कि सुबोध उनियाल भूलने की बीमारी से ग्रसित हैं, वो भूल गए कि जो मान सम्मान उनके राजनीतिक जीवन में जो उन्हे कांग्रेस से मिला है उसे पाने के लिए वह भाजपा में तरस गए हैं । इसी लिए वह कांग्रेस के नेतावों पर उल-जलूल बयानबाजी कर भाजपा नेताओं की नजर में बनकर अपना अस्तित्व तलाशने का प्रयास मात्र कर रहे हैं ।

जबकि मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार सुरेन्द्र कुमार अग्रवाल ने सुबोध उनियाल के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए व्यंगात्मक रूप में कहा कि सुबोध उनियाल के ज्ञान चक्षु खोलने में उनके एक बड़े नेता का हाथ है जिन्होने अपने जमाने में मुंबई में बहुत नाम कमाया है । जहां तक गैरसैण राजधानी की बात है तो बताना चाहूंगा कि यह वही सुबोध उनियाल जी  हैं जिन्होने कांग्रेस में रहते हुए भाजपा को इस मुद्दे पर खूब घसीटा था, और तीखे सवाल भी किए थे कि जब राज्य का गठन हुआ तो भाजपा ने राजधानी गैरसैण मे क्यों नहीं स्थापित की ? मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार ने आगे सुबोध उनियाल से सवाल करते हुए कहा कि पहले वह अपनी स्थिति स्पष्ट करें कि  उनके किस बयान को जायज माना जाय कांग्रेस मे रहते हुए कोसने वाला या आज भाजपा मे रहते हुए कांग्रेस को कोसने वाला ?  सुरेन्द्र अग्रवाल ने कहा कि मुख्यमंत्री हरीश रावत एक योजनाबद्ध तरीके से पहाड़ के विकास के काम में जुटे हैं जिसमें गैरसैण भी शामिल है और यह प्रदेश की जनता भी जानती है ।

कुलमिलाकर आगामी चुनावों  तक वोटरों को प्रभावित करने के लिए दोनों ही राजनीतिक दलों के बीच खूब जुबानी जंग  छिड़े रहने की पूरी संभावना है । और जनता इस बीच सभी पर पैनी नजर बनाए रखेगी,  और उसके बाद ही अपनी ठोस निर्णायक भूमिका भी निभाएगी ।

 ©  शशि भूषण मैठाणी ‘पारस’ ,  

Copyright: Youth icon Yi National Media, 22.11.2016

यदि आपके पास भी है कोई खास खबर तोहम तक भिजवाएं । मेल आई. डी. है – shashibhushan.maithani@gmail.com   मोबाइल नंबर – 7060214681 , 9756838527, 9412029205  और आप हमें यूथ आइकॉन के फेसबुक पेज पर भी फॉलो का सकते हैं ।  हमारा फेसबुक पेज लिंक है  –  https://www.facebook.com/YOUTH-ICON-Yi-National-Award-167038483378621/

यूथ  आइकॉन : हम न किसी से आगे हैं, और न ही किसी से पीछे ।

By Editor