नौटियाल के निधन से पत्रकारिता एवं साहित्य के क्षेत्र को हुई क्षति : राज्यपाल । ◆ भजन सम्राट अनूप जलोटा ने अपने भजनों के मार्फ़त दी साहित्यकार नंदकिशोर नौटियाल को श्रद्धांजलि ।

Youth icon yi media logo . Youth icon media . Shashi bhushan maithani paras

नौटियाल के निधन से पत्रकारिता एवं साहित्य के क्षेत्र को हुई क्षति : राज्यपाल ।

◆ भजन सम्राट अनूप जलोटा ने अपने भजनों के मार्फ़त दी साहित्यकार नंदकिशोर नौटियाल को श्रद्धांजलि ।

नौटियाल के निधन से पत्रकारिता एवं साहित्य के क्षेत्र को हुई क्षति : राज्यपाल । ◆ भजन सम्राट अनूप जलोटा ने अपने भजनों के मार्फ़त दी साहित्यकार नंदकिशोर नौटियाल को श्रद्धांजलि ।

मुंबई। महानगर के दादर स्थित योगी सभागृह में नौटियाल परिवार की ओर से आहूत श्रद्धांजलि सभा में बोलते हुए महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने कहा कि नंदकिशोर नौटियाल के निधन से हम सब दुखी हैं।
नंदकिशोर नौटियाल के निधन पर गहरा दुःख प्रगट करते हुए महामहिम राज्यपाल ने कहा कि मुझे यह नहीं लगता था कि मैं महाराष्ट्र आऊंगा तो मुझे नंदकिशोर नौटियाल नहीं मिलेंगे। ऐसी परिस्थिति में बोलना बहुत कठिन होता है। उन्होंने कहा कि पहाड़ से आकर सागर तट के इस महानगर में विपरीत परिस्थितियों में भी जब कोई व्यक्ति नंदकिशोर नौटियाल बनता है, तब ऐसा लगता है कि यह देश कितना अद्भुत है। महामहिम ने स्व0 नौटियाल के

नौटियाल के निधन से पत्रकारिता एवं साहित्य के क्षेत्र को हुई क्षति : राज्यपाल । ◆ भजन सम्राट अनूप जलोटा ने अपने भजनों के मार्फ़त दी साहित्यकार नंदकिशोर नौटियाल को श्रद्धांजलि ।

साथ अपने अनुभवों को साझा करते हुए कहा कि चूँकि हम दोनों पहाड़ के हैं और व्यक्तिगत मेल के अलावा वैचारिक एकरूपता के नाते मेरी उनसे अक्सर चर्चा होती थी। हालाँकि नौटियाल जी उम्र में मुझसे बहुत बड़े थे, लेकिन जब भी मेरी उनसे चर्चा होती तो ऐसा जरा भी प्रतीत नहीं होता था कि वे मुंबई में रहते हैं और मैं पहाड़ पर। वे इतनी आत्मीयता से बातें करते थे कि लगता था हम दो नहीं बल्कि एक ही हैं।

नौटियाल के निधन से पत्रकारिता एवं साहित्य के क्षेत्र को हुई क्षति : राज्यपाल । ◆ भजन सम्राट अनूप जलोटा ने अपने भजनों के मार्फ़त दी साहित्यकार नंदकिशोर नौटियाल को श्रद्धांजलि । अनूप जलोटा anup jalota

नवनीत के संपादक विश्वनाथ सचदेव ने कहा नौटियाल जी का जाना पत्रकारिता, साहित्य और मनुष्यता तीनों क्षेत्रों में एक बहुत बड़ी रिक्तता का आना है।

विश्वनाथ सचदेव ने कहा कि एक पत्रकार की समाज के प्रति उसके उत्तरदायित्वों के बारे में हमने नौटियाल जी से ही सीखा। हम लोग उनके के सानिध्य में ही इस शहर में बड़े हुए। उनसे लगातार सीखते रहे, उनसे लगातार प्रोत्साहन पाते रहे। उन्होंने ने पत्रकारिता के जो संस्कार हमें दिए वह बहुत बड़ी बात है।
विश्वनाथ सचदेव ने पत्रकारिता की भाषा पर नंद किशोर नौटियाल के विचारों को उद्धृत करते हुए कहा कि उन्होंने ने भाषा के माध्यम से अपने आपको समाज से जोड़ा था। उनका कहना था कि पत्रकारिता यदि समाज की भाषा में नहीं होगी तो उस पत्रकारिता का कोई औचित्य नहीं है,उसकी कोई उपयोगिता नहीं है। सचदेव ने बताया कि पुस्तकों में छपनेवाले साहित्यिक शब्दों को निकालकर पत्रकारिता में आम बोलचाल की भाषा के जो शब्द आज इस्तेमाल हो रहे हैं उनमे से अधिकांशतः शब्द उनकी देन हैं।
विश्वनाथ सचदेव ने नौटियाल के व्यक्तित्व के बारे में बताते हुए कहा कि मुंबई में उन्हें पत्रकारिता का भीष्म पितामह कहा जाता है, जो कि. निश्चित रूप से वे थे। साथ ही वे एक संवेदनशील साहित्यकार भी थे। उनकी संवेदनशीलता उनके दोनों उपन्यासों में परिलक्षित भी होती है। लेकिन इन सबके बावजूद वे एक अच्छे इंसान भी थे। एक महान इंसान जिसने जीवनभर सबका भला ही चाहा और लोगों को सिर्फ दिया ही दिया जो वे दे सकते थे।
 

नौटियाल के निधन से पत्रकारिता एवं साहित्य के क्षेत्र को हुई क्षति : राज्यपाल । ◆ भजन सम्राट अनूप जलोटा ने अपने भजनों के मार्फ़त दी साहित्यकार नंदकिशोर नौटियाल को श्रद्धांजलि । अनूप जलोटा anup jalota

स्व0 नंद किशोर नौटियाल को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए मिठाईलाल सिंह, अनुराग त्रिपाठी, कन्हैयालाल , सराफ, बृजमोहन पांडे, भंवरसिंह राजपुरोहित, हरी मृदुल, राजेश्वर उनियाल, मोहन काला आदि ने अपने उदगार व्यक्त किये। जैन तेरापंथ समाज के किशन डागलिया ने आचार्य महाश्रमण का संदेश पढ़कर सुनाया।
इस अवसर पर सुबोध शर्मा, कृपाशंकर सिंह, प्रशांत शर्मा, श्रीनारायण अग्रवाल, सुनील गाड़िया, हरकिशन भट्टड़, अनिल गलगली, चंद्रकांत त्रिपाठी, सी जी जोशी, गयाचरण त्रिवेदी, माधवानंद भट्ट, रामनारायण सोमानी, डॉ रामसागर सिंह, जे पी सिंह, शक्तिमान तलवार, डॉ देवेंद्र सक्सेना, कुमुद झवर, अरविंद तिवारी, शिवजी सिंह, चित्रसेन सिंह, चंद्रकांत जोशी, राजशेखर चावला, सुरेशचंद्र शर्मा और मंजू पांडेय आदि समाज के विभिन्न क्षेत्रों के गणमान्य बड़ी संख्या में उपस्थित थे।
इस अवसर पर भजन सम्राट पद्मश्री अनूप जलोटा ने अपने सहयोगियों के साथ नौटियालजी के पसंदीदा भजनों की प्रस्तुति दी। कार्यक्रम का संचालन अनिल त्रिवेदी ने किया।
 

By Editor