Meharban sarakar : कैबिनेट ने दी है इन प्रस्तावों को हरी झंडी ।  व्यापारियों और बिल्डरों पर हुई सरकार मेहरवान YOUTH ICON report .

Youth icon yi media logo . Youth icon media . Shashi bhushan maithani paras

नशे (ड्रग्स) के खिलाफ सभी राज्यों को संयुक्त रूप से बनाना होगा कानूनः मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत ।

◆ हरियाणा, पंजाब, राजस्थान व हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्रियों ने भी सम्मेलन में शिरकत की।

Regional Conference on Durg Menace Challenges and Strategies : Chandigarh नशे (ड्रग्स) के खिलाफ सभी राज्यों को संयुक्त रूप से बनाना होगा कानूनः मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत । हरियाणा, पंजाब, राजस्थान व हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्रियों ने भी सम्मेलन में शिरकत की।

चंडीगढ़, नशे की समस्या और उससे निबटने की चुनौतियों व योजनाओं पर विचार विमर्श करने हेतु चंडीगढ़ में एक मंच पर आए पांच राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने ‘‘नशे के खिलाफ संयुक्त रणनीति’’ और आपसी समन्वय से नशे से निबटने की प्रतिबद्धता दोहराई ।

यहां बताते चलें कि “नशे के खिलाफ संयुक्त रणनीति” नाम से आयोजित यह द्वितीय क्षेत्रीय सम्मेलन था । जिसमे उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने भी प्रतिभाग किया । मुख्यमंत्री श्री रावत ने सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए कहा कि वर्तमान में देश एवं प्रदेशों के समक्ष मादक पदार्थों का दुरूपयोग एक बड़ी चुनौती है, जिसका सामना सभी प्रदेशों को आपसी समन्वय के साथ करना होगा ।

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने अपने संबोधन में कहा कि नशा समाज में एक बहुत बड़ी विकृति के रूप में उभर रहा है, जो समाज के लिए बहुत बड़ा अभिशाप है। मुख्यमंत्री ने चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि हमारे नौजवान बड़ी तेजी से इसकी गिरफ्त में आ रहे हैं । उन्होंने युवाओं को देश का भविष्य बताते हुए कहा कि युवा डागमगाएँगे तो देश स्थिर कैसे रह सकता है इसलिए हम सबको एक साथ मिलकर समाज से नशे को हटाने के लिए मजबूती से लड़ना होगा ।

Regional Conference on Durg Menace Challenges and Strategies : Chandigarh नशे (ड्रग्स) के खिलाफ सभी राज्यों को संयुक्त रूप से बनाना होगा कानूनः मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत । हरियाणा, पंजाब, राजस्थान व हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्रियों ने भी सम्मेलन में शिरकत की।

मुख्यमंत्री ने कहा कि ड्रग्स की समस्या से निपटने के लिये प्रभावी प्रयासों की जरूरत है । समय रहते नशे की विकृति व अभिशाप को बढ़ने से रोकना बेहद जरूरी है । जिसके लिए सभी राज्यों को आपसी तालमेल बनाकर नशे के खिलाफ लड़ना होगा । मुख्यमंत्री ने इस प्रकार की समन्वय बैठकों को नियमित रूप से किए जाने की आवश्यकता बताई । साथ ही कहा कि नशे का कारोबार करने वाले छद्म वेषधारी राज्यों के आपसी तालमेल न हो पाने के कारण बच निकलते हैं इसलिए जरूरी है कि नशे का व्यापार करने वाला अपराधी एक बार पकड़ में आने से कानूनी बेड़ियों में जकड़ा रहे उसके लिए सभी राज्यों को आपस में मिलकर इनके खिलाफ लड़ना होगा ।

हमारा उत्तराखंड राज्य सजग है नशे से लड़ने के लिए :

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत ने सम्मेलन में उत्तराखंड में सरकार द्वारा नशे के खिलाफ की गई पहल को विस्तार से उल्लेखित किया । कहा कि राज्य में विकास की गति तीव्र होने के साथ-साथ हमारे सामने इस प्रकार की चुनौतियां भी हैं। हमारे समाज, विशेषकर युवाओं, में भी बढ़ती नशे की प्रवृत्ति एक गम्भीर चुनौती बनी हुई है। इसके लिए हमारा दायित्व है कि हम अपने समाज में बढ़ रही इस समस्या के निदान हेतु मिलकर प्रयास करें। उत्तराखण्ड राज्य इस चुनौती से निपटने के लिए अत्यन्त संवदेनशील, गम्भीर एवं सजग है और निरन्तर मादक पदार्थ के दुरूपयोग के विरूद्ध गम्भीरता से कार्यवाही कर रहा है। राज्य में नशे की बढ़ती प्रवृत्ति को शून्य स्तर पर लाने के लिए सम्बन्धित विभागों द्वारा आपसी समन्वय से ड्रग उन्मूलन के लिए कारगर नीति तैयार की जा रही है।

उत्तराखंड में नशे के खिलाफ चलाए जाते हैं जन-जागरूकता अभियान :

मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तराखण्ड में नशा उन्मूलन के लिए पुलिस द्वारा जन-जागरूकता अभियान निरन्तर चलाये जा रहे हैं, ताकि छात्र, छात्राएं एवं युवा वर्ग मादक पदार्थों के परिणामों से अवगत हो सके। इसके लिए प्रत्येक शैक्षणिक संस्थान द्वारा एक नोडल अधिकारी नामित करके एण्टी ड्रग कमेटी गठित की गई है। शिक्षण संस्थानों द्वारा अभिभावक-शिक्षक सम्मेलन के दौरान मनोवैज्ञानिक व मनोचिकित्सकों के साथ नशे का सेवन करने वाले छात्र-छात्राओं की काउन्सिलिंग की जाती है। प्रदेश में नारकोटिक एवं साइकोट्रॉपिक दवाओं, नकली दवाओं आदि पर प्रभावी नियन्त्रण हेतु, खाद्य संरक्षा व औषधि प्रशासन को स्वास्थ्य विभाग से अलग विभाग बनाया गया है। साथ ही सतर्कता सेल का गठन भी किया गया है, जो पुलिस उपाधीक्षक स्तर के अधिकारी के नेतृत्व में कार्य करेगा।

पांच राज्यों की पुलिस को भी आपस में समन्वय स्थापित करना होगा :

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत ने कहा कि उत्तराखण्ड नशे के खिलाफ मुहिम चलाने में हर संभव मदद के लिए तैयार है। इस सम्मेलन में प्रतिभाग कर रहे पांचों राज्यों को नशे के खिलाफ मिलकर कार्य करना जरूरी है। नशे पर प्रभावी नियंत्रण के लिए राज्यों की पुलिस को आपसी समन्वय से कार्य करना होगा। इसके लिए खूफिया तंत्र विकसित कर सूचनाओं का त्वरित आदान-प्रदान पर विशेष ध्यान देने की भी उन्होंने जरूरत बताई। मुख्यमंत्री ने कहा कि नशे के खिलाप व्यापक स्तर पर अभियान चलाने की भी जरूरत है। नशे के दुष्प्रभाव के बारे में व नशा मुक्ति के लिए स्वयं सेवी संस्थाओं, शिक्षण संस्थानों एवं अभिभावकों को भी इसमें आगे आना होगा।

इन राज्यों के मुख्यमंत्री रहे शामिल :

चंडीगढ़ में आयोजित इस क्षेत्रीय सम्मेलन में हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर, पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिन्दर सिंह, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर व संबधित राज्यों के वरिष्ठ अधिकारियों ने प्रतिभाग किया। सम्मेलन में ड्रग्स की समस्या और इससे निपटने की चुनौतियों व योजनाओं पर व्यापक विचार-विमर्श किया गया।

 

By Editor