फेरे लेने के बजाय दुल्हन कर रही है हुक ~ हुक । चमोली गढ़वाल में दुल्हन मंडप से पहुंची सीधे अस्पताल । मामला संदेहास्पद ! गोपेश्वर थाने की पुलिस कर रही है निगरानी ।

फेरे लेने के बजाय दुल्हन कर रही है हुक ~ हुक । चमोली गढ़वाल में दुल्हन मंडप से पहुंची सीधे अस्पताल ।

मामला संदेहास्पद ! गोपेश्वर थाने की पुलिस कर रही है निगरानी ।

Shashi bhushan maithani paras , शशि भूषण मैठाणी पारस , यूथ आइकॉन , youth icon
Shashi Bhushan Maithani “Paras” 

यह ताजा मामला है उत्तराखंड के सीमांत जनपद चमोली में गोपेश्वर थानांतर्गत घिंगराण का । दरअसल दुल्हन लवीना (बदला हुआ नाम) की आज धूम-धाम से शादी होनी थी, जो कल शाम से ही हाथों में अपने साजन के नाम की मेंहदी सजाकर उसका बेसब्री से इंतजार कर रही थी ।

आज यानी 10 जुलाई को सुबह दूल्हा जिसका नाम कभी समीर तो कभी सौरभ बताया जा रहा वह गाजे बाजे के साथ अपनी जीवन संगिनी को पाने की चाहत में मैदान से पहाड़ चढ़ आया । बारात द्वार पर पहुंची स्वागत सत्कार हुआ । अब बारी थी समीर और लवीना के अटूट बंधन में बंधने की व कसमें खाने की । लेकिन ऐन वक्त पर दुल्हन के ताऊ ने सारे किए धरे पर पल भर में रायता फैला दिया ।

फेरे लेने के बजाय दुल्हन कर रही है हुक ~ हुक । चमोली गढ़वाल में दुल्हन मंडप से पहुंची सीधे अस्पताल । मामला संदेहास्पद ! गोपेश्वर थाने की पुलिस कर रही है निगरानी ।

बताया गया कि ताऊ ने सीधे चमोली प्रशासन व पुलिस को सूचना भेजी की उनके स्वर्गीय भाई की बेटी की शादी उनका छोटा भाई जबरदस्ती किसी अनजान युवक के साथ कर रहा है । जिला चिकित्सालय में मौजूद कुछ लोगों ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि मामला कुछ और ही है इसमें एक नहीं अनेक झोल हैं । तभी तो तुरन्त पुलिस मौके पर पहुंचकर दुल्हन लवीना को मण्डप से उठाकर अस्पताल ले आई जो यहां अब हुक-हुक कर रही है । और उधर सेहरा सजाकर अकेला बैठा समीर नाम का दूल्हा हाथ मल रहा है । जबकि बाराती एक एक-एक कर मौके से खिसकने के फिराक में हैं । लेकिन करें क्या पहाड़ से उतरने के रास्ते भी सीमित ही हैं । और ऊपर से बरसात की तड़ – तड़ अलग ।

हालांकि इस बीच मैंने स्वयं अस्पताल में दुल्हन से बात की उसने कहा कि दूल्हा (लड़का) सुंदर नहीं है…!
इसी में वह आगे जोड़ती है कि सुंदर नहीं है पर क्या हुआ वैसे मैंने करना भी क्या है सुंदर का ? मेरे लायक तो ठीक ही है ।

तभी दुल्हन की अलास – पलास करती हुई उसकी बुआ बोली कि लड़की के पिताजी का निधन तब हो गया था जब लवीना एक डेढ़ साल की थी । उसके तुरंत बाद उसके चाचा ने अपनी भाभी का हाथ थाम लिया और बच्ची सहित उनका पालन पोषण किया । तो इसी नाते चाचा ने उसकी शादी कर ली लेकिन बड़े भाई यानी ताऊ को यह ठीक नहीं लगा तो आज उन्होंने चाचा की बैण्ड बजा डाली और अभी भी बजाए जा रहे हैं ।

अब लड़की की माँ ने मेरे पीछे किसी से बातचीत में कहा कि पहले जमाने में तो 10 – 11 साल की उम्र में शादी हो जाती थी तो मेरी बेटी तो बड़ी है इसके ताऊ को क्यों परेशानी हो रही है ।
….. यह सुन तभी मेरा ध्यान भी तुरंत इस प्वाइंट पर गया और मैंने लड़की की माँ की तरफ मुड़ते हुआ पूछ लिया कि क्या उम्र है आपकी बेटी यानी दुल्हन की …?

तो वह बोली 18 साल । फिर कुछ देर बाद बुआ से पूछा तो वह बोली 17 साल । इसी क्रम में लड़की से पूछा क्या उम्र है वह बोली 18 मान लो …. ! अरे मान कैसे लें ….? फिर पूछा मैंने 10 वीं पास हो ?
बोली…. ना जी मैं तो नौवीं में ही फेल हो गई थी । आधार कार्ड है ? बोली ….हां ।

उसमें क्या उम्र है ? वह बोल पड़ी …. सात – चार – तीन ! क्या बताया ? फिर से बताना ? .. सात – चार – तीन ।

मतलब कि अगर दुल्हन बनी लड़की की बताई डेट पर गौर करें तो वह बता रही है कि उसकी उम्र 7 अप्रैल 2003 है इसका मतलब मामला बेहद संगीन है । यहां एक नाबालिग बिटिया को विवाह बंधन में बांधा जा रहा है । फिलहाल मैं इसकी पुष्टि नहीं करूंगा क्योंकि मामले की तह तक जाने का काम पुलिस का है मेरा नहीं ।
उम्मीद है कि गोपेश्वर थाने की पुलिस इस बिंदु पर भी अपनी जांच को आगे बढ़ाएगी और मामला पकड़ में आने पर दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई भी होगी ।

लेकिन अस्पताल में यह भी खुसर फुसर चल रही थी मामला कुछ और भी है साहब । बात सिर्फ उम्र तक नहीं है दरअसल दूल्हे के क्षेत्र, जाति , धर्म का भी मामला है । कुछ लोगों ने तो इसे ह्यूमन ट्रैफिकिंग का मामला भी बताया है । इसलिए समझ लो झोल एक नहीं अनेक हैं ।

मुझे पूरा विश्वास है कि कोतवाल साहब मामले की बारीकियों को परत दर परत खोलेंगे तबियत से तफ़शिस करेंगे और फिर दूध का दूध व पानी का पानी कर दिखाएंगे । उसके बाद ही हम भी मय सबूत अपने पाठकों के सामने पुख्ता रिपोर्ट देंगे । फिलहाल यह रिपोर्ट आंखों देखी कानों सुनी है, लेकिन घटना 100% सच्चि है । मतलब कि जिसने जो कहा उसे आपके सामने मैंने रख दिया है । इसीलिए लड़की का बदला हुआ नाम रखा गया है , साथ ही अन्य किसी के नामों का भी उल्लेख नहीं किया है । अगला अपडेट आगे जल्दी इसी क्रम में ।

तब तक आप भी अपने सुझाव नीचे कॉमेंट बॉक्स में लिख भेजें । जिन पाठकों के कॉमेंट विचारणीय या पठनीय होंगे उन्हें ही हम एप्रूव्ड करेंगे ।

शशि भूषण मैठाणी पारस
9756838527
7060214681

By Editor

11 thoughts on “दुल्हन फेरे लेने के बजाय कर रही है हुक ~ हुक । चमोली गढ़वाल में दुल्हन मंडप से पहुंची सीधे अस्पताल । मामला संदेहास्पद ! गोपेश्वर थाने की पुलिस कर रही है निगरानी ।”
  1. मैठाणी जी पुरी ख़बर का पता करके बताना।

  2. मैठाणी जी इस खबर के लिए आप बधाई के पात्र है,पर इसे इतना चटकारेदार बनाना क्या जरूरी हैं।

    1. सतीश जी चटकारेदार बनाने की वजह से ही तो आप इसे पढ़ पाए ।

  3. मामला लव जिहाद का भी लग रहा है साहब

  4. खबर तो रोचक है ही परन्तु आपकी शैली ने और भी रोचक बना दी nice

    1. लव जेहाद नहीं है । परन्तु कम उम्र और पैसों का लेनदेन की बात सामने आ रही है । बाराती व दूल्हे जेल भेज दिए

  5. पूरी जांच पड़ताल होनी चाहिए पैसों के लालच में लड़की के साथ कुछ गलत भी हो सकता। है ।।लव जिहाद भी लग रहा है

  6. यह भी सोचना होगा कि कहीं इसमें गोरखा या रोहिंगज़ का हाथ तो नहीं है?

    1. हैं तो हिन्दू ही नाबालिग व पैसों के लेनदेन का मामला है ।

Comments are closed.