Youth icon Yi National Creative Media Report
Youth icon Yi National Creative Media Report

Grahwal Sweet : अब दून में भी पौड़ी की  मिठास ….! 

लेखक : मनोज इष्टवाल । देहारादून
लेखक : मनोज इष्टवाल ।
देहारादून
देहरादून कारगी चौक पर गढ़वाल स्वीट ।
देहरादून कारगी चौक पर गढ़वाल स्वीट ।

कभी कभी अचानक मिली खुशी से हम कितने खुश हो जाते हैं पता ही नहीं चलता। कल शाम कारगी चौक देहारादून स्थित इस दुकान पर जैसे ही नजर पड़ी तो मन खुशी से झूम उठा लगा मैं अपने शहर पौड़ी में ही हूँ। देहारादून भले ही पहाड़ का ही अंग है लेकिन जहां आपने युवावस्था के कई बसंत बिताए हों भला उस शहर को कैसे भूला जा सकता है।

गढ़वाल स्वीट एंड कॉफी हाउस किसी जमाने में अपनी क्वालिटी के लिए मशहूर था। पौड़ी के वासिंदे गढ़वाल स्वीट में कॉफी पीना या पिलाना फक्र समझते थे। 1976-77 के मैं उस दौर की बात कर रहा हूँ जब मैं मेसमौर इंटर कालेज में छटी सातवीं का छात्र रहा होऊंगा। सपने पहले से ही ऊंची उड़ान के थे इसलिए हर रोज गढ़वाल स्वीट एंड कॉफी हाउस की दुमंजिली उन खूबसूरत खिड्कियों को देखकर सोचा करता था कि वह दिन जरूर आएगा जब मैं यहाँ बैठकर कॉफी की चुसकियाँ लूँगा। उस दौर में देश की अर्थव्यवस्था ही ऐसी थी कि बिरले आदमी की ही जेब में हजार दो हजार रहते रहे होंगे।
फिर वह दौर भी आया लगभग एक दशक बाद जब हम जवानी की पेंग बढ़ाने के लिए अपनी चंचल नजरों का बोझ लेकर गढ़वाल स्वीट शॉप में बैठकर उसकी नक्काशीदार खिड़कियों में झूलते झालरों व पर्दों की ओट से सड़क पर चल रही यौवना को निहारा करते थे। भला उस दौर में ऐसा कौन रहा होगा जो उचटकर दुमंजिले में स्थित गढ़वाल स्वीट एंड कॉफी शॉप की खिड्कियो में न झाँकता रहा हो।
कंपीटीशन का दौर शुरू हुआ तो पौड़ी में भी कई खूबसूरत होटल खुले। गढ़वाल स्वीट शॉप भी अजेंसी से उठकर स्टेशन में आ गया लेकिन स्टेशन में आने के बाद उसका उतना चार्म रहा हो मैं कह नहीं सकता क्योंकि व्यस्तता और विवशता के दौर में मेरा वहाँ कभी बैठना नहीं हुआ। हाँ कभी यहाँ से चॉकलेट खरीदनी हुई तो खरीद ली।
अब सुनने में आ रहा है कि अकेले पौड़ी में गढ़वाल स्वीट एंड कॉफी हाउस की तीन शाखाएँ हो गयी हैं। पुरानी एजेंसी शाखा सिर्फ स्वीट्स देख रही है जबकि माल रोड (स्टेशन के पास) व जिला पंचायत बिल्डिंग की इसकी शाखाएँ पूर्वत हैं।
जब देहरादून की वादियों में इसका नया लूक नया आकर्षण देखा तो लगा मैं अपने पौड़ी आ गया हूँ। किसी दिन फुर्सत के पलों में यहाँ बैठकर अपने दोस्तों के साथ जरूर अपनी यादों के झंझावतों का घालमेल करूंगा ।

Youth icon Yi National Creative Media Report , 17.05.2016 

By Editor

One thought on “Grahwal Sweet : अब दून में भी पौड़ी की मिठास ….!”

Comments are closed.