Helicopter service, Goepshwar to Dehradun : गोपेश्वर - देहरादून के बीच हुई हैलीकॉफ्टर सेवा शुरू, स्थानीय लोगों में दिखा खासा उत्साह ।

पहाड़ में अब सफर करना पहाड़ जैसे मुश्किल नहीं रहेगा।

 

 

केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने पवन हंस लिमिटेड और हेरिटेज एविएशन को सेवा शुरू करने की अनुमति दी है। सेवा के तहत एयरक्राफ्ट का किराया 1500 से 2000 प्रति यात्री और वही हेलीकॉप्टर का किराया 3000 से ₹4500 प्रति यात्री रहेगा। हवाई सेवाएं कुमाऊं को दिल्ली से, गढ़वाल को दिल्ली से जोड़ते हुए कुमाऊं और गढ़वाल को आपस में जोड़ते हुए शुरू की जाएंगी।

 

पूजा डोरियाल Pooja Dobriyal । news . University . Srinagar . Uttarakhand . Shashi bhushan Maithani paras . Youth icon award . Media . Garhwal . गढवाल विश्वाविद्यालय की शैक्षणिक व्यवस्थाओं को जो सुधारना चाहते हैं उनके लिए इस विश्वाविद्यालय मे कोई जगह नही है। विश्वाविद्यालय मे कई असिस्टेंट प्रोफेसर, अतिथि शिक्षक हैं जो  शिक्षा के क्षेत्र मे जी-तोड़ मेहनत कर रहे हैं लेकिन ठेकेदारी मे लिप्त कर्मचारी, प्रोफेसर ऐसे शिक्षकों पर  भारी पड़ते दिख रहे हैं। शिक्षा के इस मन्दिर मे राजनीति अखाड़ा चलाने वाले कर्मचारी इतने हावी हो चुके हैं कि  लाॅ के प्रोफेसर, विक्रम युनिवर्सिटी के कुलपति पद पर बखूबी खरे उतरने वाले पूर्व कुलपति प्रो0 जे0एल0काॅल को भी विवि के कर्मचारियों  की राजनीति समझ नही आई।
पूजा डोरियाल 

हर आम आदमी को हवाई सैर कराने के उद्देश्य से नागरिक उड्डयन विभाग की अहम बैठक मैं पहाड़ों के लिए हवाई सेवाओं का रास्ता साफ हो गया। उड्डयन विभाग में पहाड़ों के कई रूटों पर हवाई सेवा शुरू करने की अनुमति दे दी है। जिसके साथ ही भारत सरकार ने उत्तराखंड में सस्ती दर पर हवाई सेवा शुरू करने का फैसला लिया है साथ ही इस सेवा को शुरू करने के लिए रूट भी तय कर दिए हैं।

Helicopter service, Goepshwar to Dehradun : गोपेश्वर - देहरादून के बीच हुई हैलीकॉफ्टर सेवा शुरू, स्थानीय लोगों में दिखा खासा उत्साह ।
Helicopter service : Uttarakhand

समूचे प्रदेश में 26 हवाई मार्गों पर उड़ान का रास्ता साफ हुवा है : 

केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने पवन हंस लिमिटेड और हेरिटेज एविएशन को सेवा शुरू करने की अनुमति दी है। सेवा के तहत एयरक्राफ्ट का किराया 1500 से 2000 प्रति यात्री और वही हेलीकॉप्टर का किराया 3000 से ₹4500 प्रति यात्री रहेगा। हवाई सेवाएं कुमाऊं को दिल्ली से, गढ़वाल को दिल्ली से जोड़ते हुए कुमाऊं और गढ़वाल को आपस में जोड़ते हुए शुरू की जाएंगी।
रूटों की अगर बात करे तो योजना के अंतर्गत एयर क्राफ्ट हिन्डन-पिथौरागढ़-हिन्डन, देहरादून-पिथौरागढ़-देहरादून, पंतनगर-पिथौरागढ़-पंतनगर की स्वीकृति दी गयी है।
इसी प्रकार सहस्त्रधारा-गौचर-सहस्त्रधारा, सहस्त्रधारा-चिन्यालीसौड़-सहस्त्रधारा, हल्द्वानी-धारचुला-हल्द्वानी एवं हल्द्वानी-हरिद्वार-हल्द्वानी के लिए हैलीकाॅप्टर की सेवाएं भी शामिल हैं।
इसके साथ ही, देहरादून-मसूरी-देहरादून, देहरादून-रामनगर-देहरादून, रामनगर-पंतनगर-रामनगर, पंतनगर-नैनीताल-पंतनगर, पंतनगर-अल्मोड़ा-पंतनगर एवं अल्मोड़ा-पिथौरागढ़-अल्मोड़ा के लिए पवनहंस सेवा को भी स्वीकृति दी गयी है।

सरकार की इस योजना के साथ ही अब हर आम आदमी हवा में उड सकेगा और जो सपना कभी सपना लगता था वह साकार होना तय है।

By Editor

One thought on “Helicopter service : पहाड़ में अब सफर करना पहाड़ जैसे मुश्किल नहीं रहेगा।”

Comments are closed.