Mahila Samooh : मुख्यमंत्री ने जन संवाद कार्यक्रम में  महिलाओ की समस्याओं को सुना और समस्या निराकरण हेतु  अधिकारियों को दिए निर्देश ।

देहारादून, 22 दिसंबर यूथ आइकॉन मीडिया, मुख्यमंत्री हरीश रावत ने गुरूवार को मुख्यमंत्री आवास कैन्ट रोड में महिला स्वयं सहायता समूह जिला संगठन देहरादून द्वारा आयोजित जन संवाद कार्यक्रम में प्रतिभाग किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री रावत ने विभिन्न महिला स्वयं सहायता समूहों की समस्याओं को सुना तथा सम्बन्धित अधिकारियों को उनके निराकरण हेतु निर्देश दिये।
महिला स्वयं सहायता समूह जिला संगठन देहारादून के कार्यक्रम में अभिवादन स्वीकारते मुख्यमंत्री हरीश रावत ।

इस अवसर पर स्वयं सहायता समूहों की प्रतिनिधियों तथा सदस्यों  से संवाद करते हुए मुख्यमंत्री श्री रावत ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा राज्य सरकार महिला स्वयं सहायता समूहों के सशक्तिकरण हेतु प्रतिबद्ध है। महिलाओं को 5 रूपये प्रति लीटर बोनस प्रदान किया जा रहा है। निर्धन विधवा महिलाओं को गंगा गाय योजना के अर्न्तगत गाय प्रदान की जा रही है। इन्दिरा अम्मा भोजनालय योजना महिलाओं के लिए संचालित की गयी है। महिला स्वयं सहायता समूह द्वारा स्थानीय उत्पादों को बेचने के प्रयासो को राज्य सरकार द्वारा प्रोत्साहन दिया जा रहा है। राज्य सरकार महिला स्वयं सहायता समूहों व महिला मंगल दलों से प्राप्त स्थानीय उत्पादों की बिक्री से जितनी भी आय प्राप्त करेगी उसका 5 प्रतिशत महिला मंगल दलो व स्वय सहायता समूहों को दिया जायेगा। 5000 रूपये की आरम्भिक राशि से महिला मंगल दलों के खाते खोले जायेगे। व्यवसायिक गतिविधियॉं आरम्भ करने के लिए महिला स्वयं सहायता समूहों को 20 से 25 हजार तक का अनुदान प्रदान किया जायेगा। आर्थिक स्वालम्बन ही महिला सशक्तीकरण की कुंजी है। राज्य सरकार विश्वास करती है कि अब नारी शक्ति ही उत्तराखण्ड के विकास के द्वार खोलेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सराकर राज्य में महिला सशक्तिकरण पर विशेष बल दे रही है।  राज्य में महिला उद्यमिता के विकास, महिला मंगल दला तथा स्वयं सहायता समूहों को प्रोत्साहित किया जा रहा है।

कार्यक्रम में बतौर मुख्यातिथि मौजूद मुख्यमंत्री हरीश रावत

मुख्यंमत्री श्री रावत ने उपस्थित महिलाओं को सम्बोधित करते हुए कहा कि हम मातृ शक्ति का सम्मान करते है।  आज राज्य सरकार जन्म से वृ़द्धावस्था तक प्रत्येक स्तर पर उनके साथ है। राज्य सरकार कन्या जन्म पर निर्धन परिवारों को 5000 रूपये प्रदान करती है। बालिकाओं की शिक्षा के प्रोत्साहन के लिए गौरादेवी योजना संचालित है। लड़कियों के विवाह के अवसर पर नन्दा देवी योजना के अर्न्तगत निर्धन वर्ग की लड़कियों को आर्थिक सहायता दी जा रही है। गर्भावस्था में उनकों पौष्टिक अनाज व अन्य सहायता उपलब्ध करवायी जा रही है इनमें आंगनबाड़ियों की महत्वपूर्ण भूमिका है। 60 वर्ष से अधिक आयु की महिलाओं को राज्य सरकार द्वारा पेंशन उपलब्ध करवायी जा रही है। वृद्ध महिलाओं को रोडवेज की बसों में निःशुल्क यात्रा की सुविधा दी गयी है साथ ही मेरे बुर्जुग मेरे तीर्थ योजना के अर्न्तगत उन्हें चारधाम यात्रा निःशुल्क करवायी जा रही है। राज्य सरकार द्वारा कमजोर बच्चों को  आंगनबाडी के माध्यम से पौष्टिक आहार उपलब्ध करवाया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने महिलाओं से अनुरोध किया कि कमजोर बच्चों को आंगनबाड़ी में ले जाया जाय। महिलाओं को 5 रूपये प्रति लीटर बोनस प्रदान किया जा रहा है। निर्धन विधवा महिलाओं को गंगा गाय योजना के अर्न्तगत गाय प्रदान की जा रही है। इन्दिरा अम्मा भोजनालय योजना महिलाओं के लिए संचालित की गयी है। महिला स्वयं सहायता समूह द्वारा स्थानीय उत्पादों को बेचने के प्रयासो को राज्य सरकार द्वारा प्रोत्साहन दिया जा रहा है। राज्य सरकार महिला स्वयं सहायता समूहों व महिला मंगल दलों से प्राप्त स्थानीय उत्पादों की बिक्री से जितनी भी आय प्राप्त करेगी उसका 5 प्रतिशत महिला मंगल दलो व स्वय सहायता समूहों को दिया जायेगा। 5000 रूपये की आरम्भिक राशि से महिला मंगल दलों के खाते खोले जायेगे। व्यवसायिक गतिविधियॉं आरम्भ करने के लिए महिला स्वयं सहायता समूहों को 20 से 25 हजार तक का अनुदान प्रदान किया जायेगा। आर्थिक स्वालम्बन ही महिला सशक्तीकरण की कुंजी है। राज्य सरकार विश्वास करती है कि अब नारी शक्ति ही उत्तराखण्ड के विकास के द्वार खोलेगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सराकर राज्य में महिला सशक्तिकरण पर विशेष बल दे रही है।  राज्य में महिला उद्यमिता के विकास, महिला मंगल दला तथा स्वयं सहायता समूहों को प्रोत्साहित किया जा रहा है। श्री रावत ने मौके पर ही सम्बन्धित प्रमुख सचिव, सचिव एव मुख्य विकास अधिकारी को स्वयं सहायता समूहों के विलम्बित विषयों के शीघ््रा निपटान हेतु निर्देश दिए। इस अवसर पर देहरादून के विभिन्न महिला सहायता समूहों के प्रतिनिधि व सदस्य उपस्थित थे।
पूर्व प्रधानमंत्री स्व0 चौधरी चरण सिंह की जंयती पर मुख्यमंत्री ने किया भावपूर्ण स्मरण । 
मुख्यमंत्री हरीश रावत ने पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह की जंयती पर उनका भावपूर्ण स्मरण किया है। पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह की जंयती की पूर्व संध्या पर जारी अपने संदेश में मुख्यमंत्री श्री रावत ने कहा है कि चौधरी चरण सिंह का सम्पूर्ण जीवन भारतीयता और ग्रामीण परिवेश की मर्यादा के लिए समर्पित रहा। वो किसानों के सच्चे हितेषी रहे। देश के विकास में उनके योगदान को हमेशा याद किया जाएगा।
YOUTH icon Media Report 22 Dec. 2016 
 

By Editor