Youth icon Yi National Creative Media Report
Youth icon Yi National Creative Media Report

Nirankari Baba Hardev Singh : बाबा की मौत हादशा या कुछ और ! पड़ताल है जरूरी …!

सतीश लखेड़ा , स्वतंत्र पत्रकार । लेखक : बीजेपी के पूर्व प्रदेश प्रवक्ता और मुख्यमंत्री उत्तराखंड के मीडिया सलाहकार भी रहे हैं । Youth icon Yi Report
सतीश लखेड़ा , स्तंभकार ।
लेखक : बीजेपी के पूर्व प्रदेश प्रवक्ता और मुख्यमंत्री उत्तराखंड के मीडिया सलाहकार भी रहे हैं ।
Youth icon Yi Report
निरंकारी बाबा हरदेव सिंह
निरंकारी बाबा हरदेव सिंह

कनाडा में निरंकारी संत बाबा हरदेव सिंह का एक सड़क दुर्घटना में हुई मृत्यु को साधारण रूप में नहीं लिया जाना चाहिए । भले ही यह प्रथम दृष्टा एक सड़क दुर्घटना है और हो सकता है कि निधान का कारण भी यही हो । किन्तु भारत सरकार को इसकी तह तक में जाने के प्रयास करने चाहिए । बाबा हरदेव सिंह साधारण व्यक्ति नहीं थे नहीं वे अनेक आध्यात्मिक संतों के तरह केवल कथा वाचन, चमत्कार, स्व-महिमामण्डन व धर्म को आधार बनाकर अंध-विश्वास को पोषण देने वाले नहीं थे । वे सामाजिक सरोकारों से प्रत्यक्ष जुड़े थे और उनका निरंकारी मिशन जनहित के अभियानों में अग्रणी था । सर्वाधिक रक्तदान करवाकर गिनीज़ बुक में निरंकारी मिशन का नाम दर्ज है । वृक्षारोपण, स्व्छता अभियान नशा उन्मूलन, दहेज विरोध व सामूहिक विवाह जैसे  कार्यों में शायद ही कोई संत इतनी तल्लीनता से जुड़ा हो ।

car xdnt ph.इस विषय पर जरूर ध्यान देना चाहिए कि उनका मिशन विदेशों में विस्तार ले रहा था । भारतीय आध्यात्मिक जगत की पूरे विश्व में प्रभाव है । भारतीय संत अनेक देशों में प्रसिद्धि पा रहे हैं, जिसका  उन देशों का स्थापित धार्मिक और आध्यात्मिक जगत सदैव विरोध में रहा है । अनेक सरकारें अपने धर्मगुरुओं के प्रभाव में रहती हैं, और उनके समर्थन और विरोध के पक्ष में खड़ी रहती हैं । इस घटना को इस नजरिए से भी देखने की जरूरत है बाबा हरदेव सिंह के पिता निरंकारी संत बाबा गुरुवचन सिंह की 24 अप्रेल 1980 को घर में ही गोली मार्कर हत्या कर दी गई थी ।

चर्चित आध्यात्मिक संत ओशो (रजनीश) के बढ़ते प्रभाव को पश्चिमी आध्यात्मिक जगत सहन नहीं कर पा रहा था । उन्हें अनेक विरोधों का सामना करना पड़ा यहाँ तक कि उन्हे ‘धीमा जहर’ देने की बातें भी खूब मीडिया में तब उछली थी । अनेक बड़ी हस्तियों के मृत्यु के कार्न आज भी अनुत्तरित हैं। नेता जी सुभाषचंद बोस व लालबहादुर शास्त्री की मृत्यु पर आज भी अनेक मत हैं । इन मृत्युओं पर इसलिए चर्चा होती है कि यह असाधारण विभूतियाँ थी । पाकिस्तान की प्रभावशाली महिला नेता बेनजीर भुट्टो की एक रैली में हत्या के कारण आज भी रहस्य के साये में है । यहाँ तक कि दुनियाँ की चर्चित मिस्ट्री बनी खबर राजकुमारी डाईना की वाहन दुर्घटना में मौत का कारण आज भी एक पहेली है । संत हरदेव सिंह की मृत्यु की बहले ही प्रथमदृष्ट्या वाहन दुर्घटना हो किन्तु इसकी तह तक जाने के प्रयास होने चाहिए ।

  • सतीश लखेड़ा , 

 Copyright: Youth icon Yi National Media, 14.05.2016

By Editor

7 thoughts on “Nirankari Baba Hardev Singh : बाबा की मौत हादशा या कुछ और ! पड़ताल है जरूरी …!”
  1. Nice report Satish Ji. Really there should be some invistigation in this case. Any how he was great person from our country…

  2. आपकी महत्वपूर्ण राय का स्वागत है।

  3. Sb Zoot hai
    Yeh hadsa nhi mara gya hai damad ne mara hai yeh zoot bola jara hai ki unka nidan kanda mai hua hai sb zoote hai yeh sb pse ke liye ho rha hai

  4. मैं बाबा हरदेव सिंह की हत्या के बारे में बहुत सारे पहलू लो चुका हूं। बाबा जी की फैमिली के लोगों का नारको टेस्ट हो जाए तो यह षड्यंत्र सामने खुल जाएगा। धन्यवाद आज मालूम हुआ कि माननीय सतीश लखेड़ा इस विषय में संबंधित है और चाह रहे हैं कि जांच हो। 9999 711 833 मैं अनुराग तन्हा दिलो जान से हाजिर हूं

  5. Babaji ki hatya hui hai CBI janch honi chahie lakho karod Ka Kala dhan BHI milega ye bat Modi Sarkar tak pahchao .

Comments are closed.