महज 12 वर्षों में ध्रुव के पास 627 कारों का बेड़ा तैयार हो गया है ।

Youth icon yi Media logoPassion Of Dhruv : देहारादून में महज 16 साल का ध्रुव कैसे बन गया 627 कारों का मालिक ?

 * Youth Icon Media Exclusive Report,  
मै भी अपने ऑफिस जा रहा था मेरी कार भी बस के पीछे चल रही कुछ गाड़ियों के पीछे थी मुझे लगा कि बस ड्राईबर ओबरटेक कर रहा है लेकिन आगे चल रही बस नाली के रैम्प पर चढ़कर एक दुकान से जा टकराई तो हकीकत का पता चला । बस ड्राइबर प्रदीप की हिम्मत व उसकी सूझबूझ को सलाम । * Shashi Bhushan Maithani 'Paras' Youth icon Yi Report

* Shashi Bhushan Maithani ‘Paras’
Youth icon Yi Report
खिलौनों से खेलते-खेलते ही महज 12 वर्षों में बन गया ध्रुव 627 कारों का मालिक । आसान नहीं है यह शौक ,
खिलौनों से खेलते-खेलते ही महज 12 वर्षों में बन गया ध्रुव 627 कारों का मालिक । आसान नहीं है यह शौक 

सुनने में आपको जरा सा भी यकीन नहीं होगा लेकिन यह बात सोलह आने सच है कि 16 साल की उम्र का एक अव्यस्क लड़का जिसके पास अपना ड्राइंविग लाइसेंस भी नहीं है वह 627 गाडियों का मालिक है। ध्रुव न तो अरबपति घराने से ताल्लुकात रखता है और न ही उसके कोई सगे संबंधी ही किसी फोरबीलर कंपनी के कारोबारी हैं । लेकिन फिर भी ध्रुव के पास हैं एक से बढकर एक लग्जरी गाडियां , और वो भी बेस से लेकर टॉप मॉडल तक ।  मजेदार बात यह भी कि सभी कार एक ही कंपनी की हैं । शायद ही पूरे हिन्दुस्तान में इस तरह का अनमोल व अनूठा कलेक्शन किसी अन्य के पास होगा । लेकिन उत्तराखंड की अस्थाई राजधानी देहरादून का ध्रुव अब इन्ही गाड़ियों के बूते देश में ही नहीं बल्कि दुनियाँ भर में अपना  नाम बनाने की जुगत में लगा है । ध्रुव का एक ही सपना है , Washington DC निवासी  Bruce Pascal (ब्रुश पास्कल)  का  Guinness World Records (गिनीज़  वर्ल्ड  रिकार्ड ) तोड़ने का , 50 वर्षीय पास्कल अपनी  2000 कारों के अनूठे संग्रह के साथ दुनियाँ भर में अभी तक नंबर वन पोजीशन पर बने हुए हैं ।   

भारत में भी देहरादून का लाडला, महज 16 वर्ष की उम्र में ही बन गया 627 गाड़ियों मालिक । 

* आसान नहीं है यह काम । 
*
सभी गाड़ियां हैं एक ही ब्रेण्ड की । 
*
ध्रुव गिनीज बुक रिकार्ड के लिए कर रहा है तैयारी । 
*
अभी तक वाशिंगटन के 50 वर्षीय ब्रुश पास्कल के नाम है 2000 गाड़ियों का रिकार्ड । 
*
उत्तराखंड का 16 वर्षीय ध्रुव तोड़ना चाहता है वाशिंगटन निवासी ब्रुश का रिकार्ड ।

बहुमुखी प्रतिभा का धनी ध्रुव पढ़ाई में भी है अब्बल । Dhruv Verma
बहुमुखी प्रतिभा का धनी ध्रुव पढ़ाई में भी है अब्बल ।

देहरादून में महज 11 वीं की कक्षा में पढ़ने वाला 16 वर्षीय ध्रुव बहुमुखी प्रतिभा का धनी है । ध्रुव को साईंस में बेहद रूचि है उसने घर पर ही ब्लू टूथ स्पीकर बनाया है जिसे कभी भी कहीं भी ले जा सकते हैं, और पूरे 15 घंटों का बैटरी बैकअप की तकनीकि इसमें इजात की हुई है ।  ध्रुव का कहना है कि इस साईज में फुल थिएटर साऊंड का आनंद देने वाला 15 घंटे बैकअप वाला बिना तार का स्पीकर बाजार में भी शायद ही मिले । मजेदार बात यह भी कि ध्रुव जिस चीज की भी कल्पना करता है तो वह उसे बाजार में तलाशने के बजाय खुद ही विभिन्न यंत्रो को जोड़ स्वयं ही घर पर तैयार कर लेता है ।   ध्रुव ने अपने स्टूडियो के लिए शानदार मॉनिटर्स भी बनाए हैं, इसके अलावा एक ऐसी सेल्फ बैलेंसिंग बाइक भी तैयार की है जिसे रिमोर्ट से कंट्रोल कर सकते हैं ।  इतना ही नहीं उसने एक कार में ऐसी तकनीकि ईजात की है जिसे वह  अपनी माँ के स्मार्ट फोन से ही कंट्रोल कर लेता है । रोबोट तकनिकी का आर्म (हाथ पंजा) तैयार किया है जिससे वह इधर उधर बिखरे सामान को समेटवाता है । जिस उम्र में बच्चे खेलते कुददते हैं मौज मस्ती करते उस उम्र में देहरादून का ध्रुव नित नए नए अविस्कारों को जन्म दे रहा है ।

Dhruv Verma . Dehradun Youth icon Yi media report ध्रुव एक बाल वैज्ञानिक के साथ-साथ एक बेहत्तरीन म्यूजिशियन व सिंगर भी है । वह खुद गानो की धुन तैयार कर कम्पोज कर लेता है, स्टूडियो रिकार्डिन्ग और फिर एडिटिंग कर उसे अपने कलेक्शन में संजो देता है ।
ध्रुव एक बाल वैज्ञानिक के साथ-साथ एक बेहत्तरीन म्यूजिशियन व सिंगर भी है । वह खुद गानो की धुन तैयार कर कम्पोज कर लेता है, स्टूडियो रिकार्डिन्ग और फिर एडिटिंग कर उसे अपने कलेक्शन में संजो देता है ।

बड़े होकर म्यूजिक कम्पोजर व म्यूजिक प्रड्यूसर बनना ही मुख्य उद्देश्य है ध्रुव का :-

अब आप सोच रहे होंगे कि विज्ञान में रूचि लेने वाला छात्र बड़े होकर गीत संगीत की दुनियां में क्या करेगा जी हाँ जब बातों ही बात में ध्रुव ने मुझसे ऐसा कहा तो मुझे भी अटपटा सा लगा, लेकिन मैं सुनता रहा मै सोचने लगा कि एक बच्चा है अभी शायद अपने मन मस्तिष्क में बहुत सारे सपने पाल बैठा हो । अब ध्रुव ने मुझे एक कमरे से दूसरे कमरे में चलने को कहा तो वहां मैंने देखा एक शानदार साऊंड प्रूफ  स्टूडियो बना था  उसके बाहर एडिटिंग टेबल कम्प्यूटर और आसपास भिन्न-भिन्न म्यूजिक यन्त्र (साज-बाज) रखे थे । बताना चाहूँगा ध्रुव एक बाल वैज्ञानिक के साथ-साथ एक बेहत्तरीन म्यूजिशियन व सिंगर भी है ।  वह खुद गानो की धुन तैयार कर कम्पोज कर लेता है, स्टूडियो रिकार्डिन्ग और फिर एडिटिंग कर उसे  अपने कलेक्शन में संजो देता है । मैं आश्चर्यचकित था कि एक 16 साल का बच्चा कैसे एक साथ इतनी सारी प्रतिभाओं का धनि हो सकता है ?
ध्रुव बताता है कि उसे पढ़ाई बहुत पसंद है इसलिए वह स्कूल में हमेशा अब्बल आता है । आगे कहता है कि जिस वक़्त और बच्चे खेलते या टीवी देखते हैं तो उस वक़्त वह नए-नए आविष्कारों पर हाथ आजमाता है, बड़े वैज्ञानिकों एवं आविष्कारकों के बारे में अध्ययन करता है और खुद भी उनकी तकनीकि को स्वम से भी मूर्तरूप देना चाहता है । ध्रुब ने बताया कि जब-जब विज्ञान से जुड़े कामों से उसे थकान महसूस होती तो वह तुरंत फिर म्यूजिक से खेलने लग जाता है और आज खेल ही खेल में वह अच्छाखासा म्यूजिक कम्पोजर भी बन बैठा है । वह म्यूजिक में अपना आदर्श ए आर रहमान व सिंगर अरिजीत सिंह को मानता है । जिनके गाने व धुनों को सुनकर ही वह इस विधा में आगे बढ़ रहा है । और इन्हे वह अपना गुरु भी मानता है ।

 महज 12 वर्षों में ध्रुव के पास 627 कारों का बेड़ा तैयार हो गया है ।
महज 12 वर्षों में ध्रुव के पास 627 कारों का बेड़ा तैयार हो गया है ।

और अब बात उस प्रतिभा की जिसके बूते वह ब्रश पास्कल का गिनीज रिकार्ड तोड़ना चाहता है :

उम्र है महज 16 साल और नन्हे उस्ताद की चमचमाती आँखों में सपने बसे हैं बेशुमार । विज्ञान और संगीत के बारे में तो आपको पता चल ही चुका है लेकिन अब बात करते हैं ध्रुव के एक बेहद पेशेंस व खर्चीले शौक की । ध्रुव तब महज 4 साल का था जब उसके हाथ पहली टॉय कार लगी । उस कार से उसे इस कदर लगाव हुवा कि फिर कारों की उसके पास एक लम्बी कड़ी जुड़ती चली गई । ध्रुव को वो लोग बहुत पसंद आते हैं जो उसे गिफ्ट में कोई कार दे दे ।  आज महज  12 वर्षों में ध्रुव के पास 627 कारों का बेड़ा तैयार हो गया है ।  ध्रुव का मानना है कि शायद यह पूरे भारत वर्ष में एकमात्र कलेक्शन होगा जिसमें एक साथ इतनी गाड़ियां मौजूद हैं ।

इस तरह का शौक विरलों को ही होता है :

बताते चलें कि गिनीज बुक ऑफ़ रिकार्ड में ऐसे कलेक्टरों का बकायदा नाम भी दर्ज है । वर्तमान में 2000 कारों  के बेड़े के साथ वाशिंगटन डीसी निवासी 50 वर्षीय ब्रुश पास्कल का नाम गिनीज बुक में दर्ज है,  ब्रुश की 2000 कारों का बेड़ा 3 लाख डॉलर  की पूंजी से जमा हुआ है, जिसमे कई वर्षो का लम्बा वक़्त भी लगा है । वर्तमान में ब्रुश पास्कल की कारों की कुल कीमत 2 करोड़ अमेरिकी डॉलर की है । अब 50 वर्षीय ब्रुश के रिकार्ड को ध्वस्त करने के लिए भारत का 16 वर्षीय ध्रुव हो रहा है तैयार ।

यह हैं ध्रुव की वह शानदार कार कलेक्शन जिसके बूते वह दुनियाँ भर में नाम कमाना चाहता है ।
यह हैं ध्रुव की वह शानदार कार कलेक्शन जिसके बूते वह दुनियाँ भर में नाम कमाना चाहता है ।

आसान नहीं है कारों का यह संग्रह : 

बेशक इस आर्टिकल को पढ़ते पढ़ते अब आप में से कई पाठकों को लग रहा होगा कि इन खिलौना गाड़ियों को तो आप भी बड़ी ही आसानी से जमा कर सकते हैं । लेकिन ऐसा नहीं है ध्रुव  बताते हैं कि जिस तरह वाशिंगटन निवासी ब्रुश पास्कल ने दुनियाभर में एकमात्र जानीमानी ब्रेण्ड हॉट व्हील्स कंपनी की 2000 कारों का संग्रह कर गिनीज बुक में अपना दर्ज किया है इसी तरह से ध्रुव के पास भी इस प्रतिष्ठित ब्रेण्ड की कुल 627 कारें जमा हो चुकी हैं ।
मजेदार बात कि कलेक्टर को हर गाड़ी को एक दूसरे से भिन्न रखना होता है और प्रत्येक  कार का कॉपीराईट नम्बर भी एक जैसा नहीं होना चाहिए । कुल मिलाकर अगर कोई सोचे कि वह ब्रुश पास्कल की 2000 गाड़ियों के रिकार्ड को तोड़ने के लिए एक साथ मार्किट से अभी 2001 कारों को एक झटके में खरीदकर ले आए  और वह रिकार्ड तोड़ लेगा तो यह मात्र उस कार कलेक्टर लिए महज खुशफहमी से ज्यादा कुछ नहीं होगा । ध्रुब बताते हैं कि यह बहुत ही पेशेंस वाला काम है यह एक दिन, महीनेभर या 5 से 10 वर्षों में किया जाना वाला काम मात्र नहीं है इस काम में आपके धैर्य कि परीक्षा भी होती है । ध्रुव बताते हैं कि वह बहुत जल्दी लिम्काबुक ऑफ़ रिकार्ड के अलावा इण्डिया रिकार्ड में अपना नाम दर्ज करवाने के लिए पूरी तैयारी भी कर चुके हैं ।

ध्रुव वर्मा के कलेक्शन की विशेष कार :

यही Dodge Charger है ध्रुव की विशेष कार जिसकी ऑक्शन वैल्यू एक लाख रुपए तक जा सकती है ।
यही Dodge Charger है ध्रुव की विशेष कार जिसकी ऑक्शन वैल्यू एक लाख रुपए तक जा सकती है ।

Dodge Charger है ध्रुव की विशेष कार जिसकी ऑक्शन वैल्यू एक लाख रुपए तक जा सकती है । इसकी खासियत यह है कि इसका बोनट भी खुलता है । भले ही भारत में इसके कद्रदान न हों पर ध्रुव तो विदेश में टक्कर लेने के लिए कमर कसे हुए है ।
ध्रुव बताते हैं कि अगर वह आज ही अपने कलेक्शन की बोली लगा दें तो इसके लिए उन्हें 5 से 7 करोड़ विदेशों में बड़ी आसानी से मिल जाएंगे । लेकिन उनका सपना पैसा नहीं बल्कि ब्रुश पास्कल का रिकार्ड तोड़ना एकमात्र लक्ष्य है ।

कहते हैं बूंद-बूंद पानी से सागर बन जाता है । गागर में सागर का कुछ ऐसा ही कारनामा कर दिखाया है ध्रुब ने ।  ध्रुब के इस कार प्रेम का हर कोई दीवाना है। आज उन्होनें इस अद्भुत कारनामे की बदौलत देश-दुनिया में नाम कमाने के लिए अपनी राह भी खुद से तैयार कर ली है । 16 वर्षीय ध्रुब की कारों का यह क्लैक्शन अनमोल है । हमें गर्व है ध्रुव पर और सलाम है उनकी लगन और मेहनत को । कौन कहता है आसमां में सुराख नहीं हो सकता, एक पत्थर तबियत से तो उछालों यारों ।

(अभी  तक  किसी  भी  मीडिया  में  ध्रुव  की  पहली   स्टोरी  है  यह । क्योंकि यूथ  आइकॉन  का काम  है  प्रतिभाओं  खोजना  और  उन्हे  प्रोत्साहित  करना   )

*प्रस्तुति : शशि भूषण मैठाणी ‘पारस’ ,  एडिटर Yi मीडिया । संपर्क – 9756838527, 7060214681 , 9412029205  

Copyright: Youth icon Yi National Media, 21.10.2016

यदि आपके पास भी है कोई खास खबर तोहम तक भिजवाएं । मेल आई. डी. है – shashibhushan.maithani@gmail.com   मोबाइल नंबर – 7060214681 , 9756838527  और आप हमें यूथ आइकॉन के फेसबुक पेज पर भी फॉलो का सकते हैं ।  हमारा फेसबुक पेज लिंक है  –  https://www.facebook.com/YOUTH-ICON-Yi-National-Award-167038483378621/

यूथ  आइकॉन : हम न किसी से आगे हैं, और न ही किसी से पीछे ।

By Editor

18 thoughts on “Passion Of Dhruv : देहारादून में महज 16 साल का ध्रुव कैसे बन गया 627 कारों का मालिक ? Youth Icon Exclusive Report”
  1. प्रतिभा को सलाम और शुभकामनाएँ

  2. शशि भूषण मैठाणी’पारस’ भाईसाहब जी आपके द्वारा हमें भी ध्रुव के talent के बारे में जानकारी प्राप्त हुई बहुत अच्छा लगा,हमारी शुभकामनाऐ उसके साथ हैं,भगवान हमेशा ध्रुव के सपनो को साकार करे।

  3. Congrats dhruv doon will really feel proud of u may god bless u for ur upcoming sucess

  4. I really appreciate Youth Icon for bringing up new talents to limelight.
    Congratulations to Shashibhushan Maithani Sir.

  5. Congrats dhruv nd maithani sir you too for redefining the talent… i.e. by youth icon…. best wishes

Comments are closed.