Youth icon Yi National Creative Media Report
Youth icon Yi National Creative Media Report

Ramdev : और, बुरे फँसे बाबा….!

लेख : ब्रजेश राजपूत, पत्रकार , समीक्षक (मध्य प्रदेश)
लेख : ब्रजेश राजपूत, पत्रकार , समीक्षक (मध्य प्रदेश)
पत्रकारों द्वारा पूछे गए सवालों का जबाब देने की कोशिस करते बाबा रामदेव ।
पत्रकारों द्वारा पूछे गए सवालों का जबाब देने की कोशिस करते बाबा रामदेव ।

योग गुरू बाबा रामदेव उज्जैन आये तो थे सिंहस्थ मे अपने योग शिविर और मध्यप्रदेश में लगने लगने वाले फूड पार्क की जानकारी देने, मगर वहाँ मौजूद पत्रकारों ने उनको पकड़ कर रगड़ ही दिया । मतलब सवालों से । पहला सवाल निकलकर आया बाबा बताओ काला धन कब वापस आयेगा… ? बाबा पहले ही सवाल पर असहज हो गए । बस अब दूसरा फिर तीसरा एक-एक कर सवाल अन्य पत्रकारों की ओर से बाबा राम देव पर दागे जाने लगे मसलन ….. बाबा लोकसभा चुनाव के पहले काले धन वापसी पर आपके उस अभियान का क्या हुआ…?   बाबाजी…अब काले धन की बात क्यों नहीं करते हो …?   वग़ैरह-वग़ैरह ..प्रश्नों की बौछार से पहले तो बाबा विचलित हुये, और फिर सवालों की जबर्दस्त रगड़न से बाबा पसीने से तरबतर हो चुके थे ।

चलो, इस सवाल का जवाब देने पहले पसीना पोंछ लिया जाय ।
चलो, इस सवाल का जवाब देने पहले पसीना पोंछ लिया जाय ।

तभी पत्रकारों की ओर से आखिरी सवाल हमारे एक और पत्रकार साथी ने ज़ोर लगाकर बाबा की ओर उछाला कि ,  बाबा अब क्यों ऐसा लगता है कि आप किसी पार्टी, दल और नेता के प्रवक्ता हो गये हैं…! इस सवाल के आते ही बाबा ने पसीने से लतपत हुए अपने चेहरे का कोना-कोना पोंछ डाला और फिर बोल पड़े सच्चाई । भाई वाकही अब दो साल हो गए हैं और काला धन नहीं आया तो बोलना ही छोड़ दिया इस विषय पर । बाबा ने आगे कहा कि मगर मोदी सरकार पर भरोसा रखें आज नहीं तो कल काला धन वापस ज़रूर आयेगा ।

क्या अब भी कोई बाबा की बात पर विश्वास करेगा…… ? सवाल मुंह बाए खड़ा है …!

  • ब्रजेश राजपूत, मध्यप्रदेश ।

Copyright: Youth icon Yi National Creative Media , 16.05.2016  

By Editor

5 thoughts on “Ramdev : और,बुरे फँसे बाबा….!”
  1. गोलमाल है सब गोलमाल है

  2. baba abhi to paseenaa hi poonchh rahe hain aage aage dekho kyaa kyaa ponchte hain ..

  3. well the left media never questioned Congres over the issue for last 10 years and want reuslts from Modi in two years that is unfair

Comments are closed.