Patni ne ki pati ki hatya पत्नी ने पति को ऐसे मौत की नींद सुलाया कि उसकी चीख आस-पड़ोस में भी किसी को भी सुनाई नहीं दी ।

Youth icon yi media logo . Youth icon media . Shashi bhushan maithani paras

उसने उसे ऐसे मारा कि सुनकर सभी की रूह कांप जाएगी !

पत्नी ने पति को ऐसे मौत की नींद सुलाया कि उसकी चीख आस-पड़ोस में भी किसी को भी सुनाई नहीं दी ।

Patni ne ki pati ki hatya पत्नी ने पति को ऐसे मौत की नींद सुलाया कि उसकी चीख आस-पड़ोस में भी किसी को भी सुनाई नहीं दी ।

 

ति समझ नहीं पाया कि उसकी पत्नी आज क्या ताना-बाना बुन रही है । वो हर रोज की तरह उस शाम भी घर लौटा तो पत्नी ने हमेशा की तरह उसके आने पर दरवाजा खोला ।

लेकिन यह सिर्फ उसकी पत्नी जानती थी कि आज घर का यह दरवाजा उसके पति के लिए यमलोक जाने के लिए काल बनकर खुल रहा है । हालांकि पत्नी हर रोज पति के लिए दरवाजा खोलती थी लेकिन उस शाम दरवाजे को खोलने के लिए पत्नी बेसब्री से दिनभर इंतजार करती रही, और फिर शाम होते – होते वह वक़्त आ ही गया, जब पति दरवाजे पर आ पहुंचा और पत्नी का इंतजार भी खत्म हुआ ।

पत्नी के मन में रची-बसी योजना से बेखबर, अनजान पति ने हर रोज की तरह घर के कोने में रखी शराब की उस बोतल को घटकना शुरू किया, जिसे उसकी पत्नी पहले से ही अपनी योजना में अपने साथ शामिल कर चुकी थी । जैसे-जैसे पति शराब पीता गया वैसे-वैसे पत्नी का दुस्साहस भी बढ़ता चला गया । और देखते ही देखते पति बोतल के आगे बेबस व निढाल सा पड़ गया ।

Patni ne ki pati ki hatya पत्नी ने पति को ऐसे मौत की नींद सुलाया कि उसकी चीख आस-पड़ोस में भी किसी को भी सुनाई नहीं दी ।

बस … इसी मौके का तो वह इंतजार कर रही थी । जैसे ही उसका पति बेहोश हुआ तो उसने सोची समझी चाल के तहत उसे जल्दी से जल्दी यमलोक पहुंचाने की योजना पर अगला काम शुरू कर दिया ।
जी हाँ अगला काम …….

योजनानुसार पहला काम उसका यह था कि शराब की बोतल में कुछ ऐसी छेड़छाड़ की जाए जो आज उसके पति को गहरी नींद में सुला दे । और दूसरी व तीसरी योजना का मंजर इतना खौफनाक कि जिसने भी सुना उसकी रूह कांप उठी लेकिन पत्नी ने अपने पति के साथ वो सब किया जो बेहद ही क्रूर व विभत्स था । जिसके बाद उसने अपना जुर्म खुद ही कबूल भी लिया ।

पत्नी ने अपने पति की गर्दन काटकर की उसकी क्रूर हत्या :

बात दरअसल देवभूमि उत्तराखंड के देहरादून की है । यहां बसंत विहार थानांतर्गत एक पत्नी अपने पति की वाहयाद हरकतों से इतनी खीज खा चुकी थी कि उसे अंत में एक ऐसा फैसला लेना पड़ा जो बेहद ही अमानवीय और क्रूर था ।

Patni ne ki pati ki hatya पत्नी ने पति को ऐसे मौत की नींद सुलाया कि उसकी चीख आस-पड़ोस में भी किसी को भी सुनाई नहीं दी ।

यहां आपको बताते चलें कि घटना बीते 8 अप्रैल 2019 की शाम की है । देहरादून में थाना बसंत विहार क्षेत्र की एक महिला जिसने पुलिस को अपना नाम सलमा बताया है ने एक बेहद ही क्रूर घटना को अंजाम दिया है । और ताज्जुब की बात यह कि महिला ने घटना को अंजाम देने के बाद खुद को पुलिस के हवाले भी कर दिया ।

सलमा जब बसंत विहार थाने की इंदिरानगर पुलिस चौकी में खुद ही पहुंची तो उसने बताया कि उसने अपने पति गय्यूर खान की गर्दन काटकर उसको मार डाला । सलमा ने बताया कि वह श्रीदेव सुमन नगर चोरखाला के मकान नम्बर 93 में रहते है । सलमा ने पुलिस को बताया कि गय्यूर उसका तलाकशुदा पति था लेकिन वह रहते साथ ही थे ।

पति पत्नी को दूसरे लोगों के साथ शाररिक सम्बन्ध बनाने का देता था दबाव :

पुलिस ने हत्या का कारण पूछा तो उसने बताया कि गय्यूर और उसने वर्ष 2017 में लव मैरिज की थी । गय्यूर मूल रूप से उत्तर प्रदेश के मुजफ्फर नगर में पुरकाजी का निवासी था । सलमा ने बताया कि शादी के कुछ दिनों के पश्चात ही गय्यूर ने उसे बताया कि हम दोनों की शादी से उसके घर वाले खुश नहीं हैं जिस कारण उसके परिजनों ने उसे चल अचल संपत्ति से बे-दखल कर दिया है । सलामा ने पुलिस को आगे बताया कि गय्यूर ने चालाकी से उससे यह कहते हुए तलाक ले लिया कि ऐसा करने से उसके घरवाले फिर से बेदखल संपत्ति में उसका नाम हटाकर वापस घर में ले लेंगे तो फिर घर वालों को विश्वास में लेकर शादी कर लेंगे ।

सलमा ने अपने बयान में बताया कि वह गय्यूर की मंशा को भांप न सकी और उसे तलाक दे दिया लेकिन गय्यूर और सलमा तलाक के बाबजूद भी इंदिरानगर के एक घर में एक ही छत के नीचे रहते रहे । धीरे – धीरे गय्यूर सलमा को अन्य लोगों के साथ हम बिस्तर होने / अवैध संबंध बनाने को कहने लगा । उस पर लगातार शाररिक व मानसिक रूप से दबाव डालता रहा । जब गय्यूर के गंदे इरादों की अति होने लगी तो मुझे आज उसे मारना ही पड़ा ।

लेकिन सलमा ने मजबूत हाड़मांस वाले गय्यूर को अकेले ही कैसे मार डाला :

इस बात के जबाब में सलमा ने बताया कि गय्यूर को शराब पीने की आदत थी । उसका गला काटने से पहले ही उसने घर में रखी गय्यूर की शराब की बोतल में दिन में नशे की कई गोलियों को पीसकर मिला लिया था । जिसे घर लौटने पर गय्यूर ने जब पीना शुरू किया तो वह बेहोश हो गया था । सलमा ने पुलिस को आगे बताया कि उसने गय्यूर के बेहोश होने के तुरंत बाद उसके मुंह , हाथ व पैरों को टेप से लपेट लिया था और फिर उसने घर में रखें चाकू को हाथ में लेकर उसके गले को काट डाला ।

बेहोश होने व मुंह के अलावा हाथ पैरों में खूब टेप लपेटे होने के कारण गय्यूर तड़पता रहा पर उसकी चीख घर की दीवारों को भेदकर बाहर न जा सकी । भले ही सलामा को मजबूरन इस भयानक विभत्स व क्रूर घटना को अंजाम देना पड़ा हो लेकिन सभ्य समाज व कानून की नजर में सलमा के इस दुस्साहस को बिल्कुल भी जायज नहीं ठहराया जा सकता है । लिहाजा पुलिस ने आरोपी पत्नी सलमा की निशानदेही पर ही इंदिरानगर में सलमा के घर के बिस्तर से खून से लतपत गय्यूर की लांश को अपने कब्जे में लिया व आरोपी सलमा को गिरफ्तार कर उसे जेल भेज दिया है ।

पर कुछ भी सलाम है तो हत्या आरोपी ही :

बेशक अपने-अपने जीवन में हर कोई किन्हीं न किन्हीं कारणों से परेशान क्यों न हो पर कभी भी जीवन में ऐसा कदम न उठाएं जिससे समाज में बुरा प्रभाव व संदेश जाए । यहां पर सलमा की कहानी को सुनने के बाद बेशक उसके प्रति दयाभाव जागे, लेकिन उसने जिस दुस्साहस का परिचय देते हुए इस जघन्य घटना को विभत्स रूप में अंजाम तक पहुंचाया है उसे किसी भी सूरत में सही नहीं ठहराया जा सकता है । यह सबको समझना होगा कि जब भी कोई परेशानी जीवन में आए तो पहले अपनी समझदारी से इसे निबटाने की कोशिश करें । जब बात न बने तो आरोपी के खिलाफ ठोस सबूतों / साक्ष्यों के साथ कानूनी लड़ाई लड़ें और उसे सजा दिलाएं परन्तु इस तरह के कदम स्वयं कभी भी न उठाएं । सलमा ने कानून को अपने हाथ में लिया  इसलिए सलमा को भी उसके गुनाहों की सजा कानूनन मिलकर ही रहेगी ।

सलमा खुद भी कम गुनहगार नहीं है ! आखिर क्यों वह लंबे समय से पराए मर्द यानी अपने पूर्व पति गय्यूर जो कि तलाकशुदा था के साथ  रह रही थी । अगर गय्यूर उसे गलत धंधे में धकेल रहा था तो उसे पुलिस के पास जाकर शिकायत दर्ज करवानी थी और कानूनन गय्यूर को उसके कर्मो की सजा दिलानी थी । लेकिन जिस तरह की साजिश के तहत समीना ने अपने तलाकशुदा पति की बेरहमी से हत्या की है वह बेहद अफ़सोशजनक है ।  

● स्क्रिप्ट :  शशि भूषण मैठाणी ‘पारस’
9756838527
7060214681

shashibhushan.paras@gmail.com

By Editor