Scary truth : अभी क्लिक करें, देखें एक खौफ़नाक सच ! डरा रही है ये तस्वीर, हर घर में सावधानी बरतने की है जरूरत । छिपकली । सांप । बिच्छु । काटने पर उपचार । गैस सिलेंडर । youth icon media । यूथ आइकॉन मीडिया अवार्ड । शशि भूषण मैठाणी पारस । shashi bhushan maithani paras ।

डरा रही है ये तस्वीर, हर घर में सावधानी बरतने की है जरूरत ।

यह तस्वीर पहली नजर में भले ही हमें रोमांचित कर सकती है लेकिन यह जानलेवा भी हो सकती है इससे कोई इनकार भी नहीं कर सकता है । ऐसी घटना कभी भी कहीं भी घट सकती है, जो कि एक भयानक दुर्घटना का कारण भी बन सकती है ।

फोटो को गौर से देखिए यह हर घर की रसोई में रखा जाने वाला गैस सिलेंडर है । और सिलेंडर के नीचे फ्रेम के खांचे में दुबका हुआ है जहरीला सांप । मुझे पूरा यकीन है कि यह तस्वीर हर किसी के रौंगटे खड़े कर देने के लिए काफी है । और सावधान रहने के लिए भी ।

एक सबक के तौर पर देखें फोटो :

Scary truth : अभी क्लिक करें, देखें एक खौफ़नाक सच ! डरा रही है ये तस्वीर, हर घर में सावधानी बरतने की है जरूरत । छिपकली । सांप । बिच्छु । काटने पर उपचार । गैस सिलेंडर । youth icon media । यूथ आइकॉन मीडिया अवार्ड । शशि भूषण मैठाणी पारस । shashi bhushan maithani paras ।

 

जी हाँ ! यह महज रोमांच को बढ़ाने वाली फोटो मात्र नहीं है बल्कि इसे देख हम सबको सबक लेने की भी सख्त जरुरत है । खासकर आजकल मानसून के दो ढाई महीनों तक तो बेहद सावधान रहने की आवश्यक्ता है । बात सिर्फ सिलेंडर की ही नहीं है । गर्मियों के मानसून के मौसम में जमीन के अंदर जगह-जगह पानी भर जाने के कारण सांप, बिच्छु, छिपकली आदि खतरनाक कीड़े मकोड़े सुरक्षित ठिकानों के तलाश में घरों में घुस आते हैं । इनमें खासकर सांप या बिच्छु घरों के अँधेरे कोने या सीलन वाली ठंडी जगहों को अपने लिए मुफ़ीद मानकर दुबक जाते हैं । जिनका कि घर के सदस्यों को कभी पता नहीं चलता है । इसलिए बरसात के सीजन में अगर ज्यादा जरूरी न हो तो फ़ालतू के सामनों को किसी बक्से में पैक कर लें और सिर्फ जरूरत की चीजें बाहर रखें । घर के कोनों या दीवाल से बिस्तर, सोफे या कॉर्नर रैक को चिपकाकर न रखें ।
यदि कभी साफ़ सफाई या अन्य कारणों से आप सामान को इधर उधर करना चाहते हैं तो सबसे पहले चीजों को झाड़ू या डंडे से खूब हिला लें । ताकि कोई खतरनाक जीव हो तो वह हलचल से बाहर निकल आए और आप उसे तुरन्त दबोच भी लें । बच्चों को भी इस तरह के एहतियात बरतने की सलाह समय-समय पर देते रहें । गैस सिलेंडर निकालते वक़्त उसे सीधे हाथों से न उठाएं, बल्कि सावधानी पूर्वक पहले उसे खूब हिला डुला लें फिर सिलेंडर को लेटाकर अच्छे से देख लें कि कहीं सांप या बिच्छु उसके किसी हिस्से में छुपा तो नहीं है । जैसे कि आप फोटो में भी साफ़ तौर पर देख पा रहे होंगे ।

घरों की दीवारों पर मंडराने वाली छिपकली भी हैं खतरनाक :

Scary truth : अभी क्लिक करें, देखें एक खौफ़नाक सच ! डरा रही है ये तस्वीर, हर घर में सावधानी बरतने की है जरूरत । छिपकली । सांप । बिच्छु । काटने पर उपचार । गैस सिलेंडर । youth icon media । यूथ आइकॉन मीडिया अवार्ड । शशि भूषण मैठाणी पारस । shashi bhushan maithani paras ।

 

शायद ही ऐसा कोई घर हो जहां दीवारों में छिपकली न दिखाई पड़ती हो । हालाँकि अभी तक छिपकलियों के बारे में अलग अलग धारणाएं लोगों के बीच में है । कुछ विद्वान मानते हैं कि छिपकली के दांत नहीं होते हैं इसलिए वह काट नहीं सकती है । छिपकली जहरीली भी नहीं होती है ऐसी भी दलील सुनने को

मिल जाती हैं । यहाँ मैं भी अपनी रिपोर्ट में दावा नहीं कर रहा हूँ कि छिपकली जहरीली होती है । हो सकता है छिपकलियों के भिन्न-भिन्न प्रजाति होती हों जिनमें से कुछ जहरीली होती हों तो कुछ नहीं भी ।

लेकिन आप हमेशा ध्यान रखें कि छिपकलियां जहरीली भी होती हैं । हालाँकि यह हल्की सी आहट के बाद इधर-उधर भागकर छुप जाती है । परन्तु छिपकली के जहर के बहुत से किस्से सुने और प्रत्यक्ष देखें हैं । सावधानी बरतें कि घरों में कभी भी खाने के सामान को खुला न छोड़ें । खासकर दाल का प्रेसर, कढ़ाई, दूध, खिचड़ी आदि । पूर्व में ऐसे बहुत से किस्से हुए हैं कि जब खाने में छिपकली गिरी और परिवारजनों को पता ही नहीं चला और खाना खाने के बाद पूरे के पूरे परिवार समाप्त हुए हैं । ऐसा ही एक भयानक दर्दनाक हादसा कुछ वषों पहले उत्तराखंड के चमोली जिले में हुआ था । दादी ने बच्चों के स्कूल से आने से पहले खिचड़ी चूल्हे पर चढ़ाई और उसे बिना ढ़के कुछ देर के लिए इधर-उधर चलीं गई । कुछ देर बाद तीनों मासूम बच्चे भी स्कूल से लौटे तो दादी ने सबको खिचड़ी परोसी, खुद भी खाई, लेकिन उन्हें पता ही नहीं चला कि खिचड़ी में छिपकली गिर कर मर गई है । वह हादशा इतना मार्मिक था कि दादी सहित सभी बच्चे खिचड़ी खाते खाते उसी जगह पर समाप्त हो गए थे ।

ऐसी ही एक घटना नब्बे के दशक में कर्णप्रयाग ब्लॉक की थी जब 26 साल का युवक गर्मियों के मौसम में दिन का भोजन करने के बाद अपने बिस्तर पर लेटा तो उसके कंधे वाले हिस्से से बिस्तर में पहले से मौजूद छिपकली दब गई थी । तब छिपकली ने उसके कंधे पर उल्टा डंक मार दिया था और वह युवक भी कुछ ही पल में मर गया था । हालांकि युवक को अस्पताल ले जाते वक़्त गाड़ी में किसी ने उसके कंधे पर मरी हुई छिपकली चिपकी देखी, जब उसे निकालने लगे तो छिपकली का उल्टा डंक युवक के शरीर में धंसा हुआ था । युवक की मौत की पुष्टि शरीर में खतरनाक जहर होने के रूप में हुई थी ।

कुलमिलाकर जिन्हें हम कमतर आंकते हैं वही हमारे जीवन के लिए कभी-कभी सबसे भयानक सबक बन जाते हैं । इसलिए कोई कुछ भी दलील दें लेकिन आपको अपने साथ-साथ अपने परिवार व बच्चों को भी सुरक्षित रखना है तो जीवन में छोटी-छोटी सावधानियों को नजरअंदाज न करें ।
इस पोस्ट को आप सबके हित में लिखा गया है ताकि आप हम व हमारे परिवार के सभी सदस्य जागरूक हों सतर्क रहें व सदा सुरक्षित रहें ।
अगर रिपोर्ट अच्छी लगी तो जनहित में इस लिंक को ज्यादा से ज्यादा फॉरवर्ड करें ।

Script : Shashi Bhushan Maithani Paras

Photo : Whatsapp

By Editor