Tryed to steal a scooter : इन दो नाबालिग बच्चों की ऐसी हरकत से हो गए सब सन्न ! भरी दोपहरी में आखिर क्या कर डाला इन दो बच्चों ने ऐसा जिससे सबके मुंह निकला एक साथ .... हाय राम ..! Raj Kaushik New Era photo . Youth icon award report . Shashi bhushan maithani paras

Youth icon Yi Media Award logo . यूथ आइकॉन वाई आई मीडिया अवार्ड लोगो । shashi bhushan maithani paras . शशि भूषण मैठाणी पारस . uttarakhand । उत्तराखंड

इन दो नाबालिग बच्चों की ऐसी हरकत से हो गए सब सन्न ! भरी दोपहरी में आखिर क्या कर डाला इन दो बच्चों ने ऐसा जिससे सबके मुंह निकला एक साथ …. हाय राम ..!

माफ़ी चाहेंगे लिंक में स्पेलिंग Tried की जगह Tryed  हो गई है ।  

 

Raj Kaushik

देहरादून, हालांकि अब ऐसी घटनाएं भारत में सिर्फ एक शहर मात्र तक सीमित नहीं हैं । आए दिन देश के अलग-अलग राज्यों के भिन्न-भिन्न शहरों से ऐसी खबरों की भरमार है । लेकिन इस सबके बाबजूद भी आज जो कुछ उत्तराखंड की अस्थाई राजधानी देहरादून में हुआ उसने क्या आम और क्या ख़ास सबको अचम्बित कर डाला ।
जिस उम्र में बच्चों का मन खेलकूद, पढ़ाई के अलावा अन्य रचनात्मक कामों में लगा रहता हो तो वहीं ठीक इसके उल्ट जब एक नहीं बल्कि दो – दो नाबालिग बच्चे दिन दहाड़े जिंदादिल शहर की व्यस्त सड़कों पर ऐसा गुल खिलाएंगे तो, राहगीरों का हैरान होना भी लाज़मी है ।

एक ऐसी चाबी जिसने खोल दी इनके जुर्म की कलई :

बड़े अरमानों के साथ दोनों बच्चों ने प्लानिंग तैयार की। स्वाभाविक सी बात है कि घटना को अंजाम देने से पहले होमवर्क भी किया गया था । अब आपको बताते हैं कि आखिर मसला है क्या ?

Tryed to steal a scooter : इन दो नाबालिग बच्चों की ऐसी हरकत से हो गए सब सन्न ! भरी दोपहरी में आखिर क्या कर डाला इन दो बच्चों ने ऐसा जिससे सबके मुंह निकला एक साथ .... हाय राम ..! Raj Kaushik New Era photo . Youth icon award report . Shashi bhushan maithani paras

दरअसल दो नाबालिग बच्चे (चिंटू और पिंटू बदला हुआ नाम) सबसे पहले तो देहरादून की चकराता रोड पर यह देखने के लिए निकले कि आज किसका स्कूटर उठाया जाय, जब इन्होंने काफी देर से सिनेमा घर के पास एक स्कूटर खड़ा देखा तो इन्हें यकीन हो गया अब इसका मालिक जल्दी आने वाला नहीं है । जिसके बाद दोनों बच्चे डुप्लीकेट चाबी बनाने वाले मास्टर को स्कूटर वाली जगह पर यह बोलकर ले लाए कि…., अंकल हमारे स्कूटर की चाबी खो गई है …. हमें घर जाना है …. पापा मम्मी पिटाई करेंगे, वगैरह वगैरह ….

खैर … चाबी बनाने वाला भी बच्चों की बात पर यकीन कर चला आया और उसने भी मौके पर आकर स्कूटर की डुप्लीकेट चाबी बनाने का कार्य आरम्भ कर दिया ।

इधर फटफटिया की चाबी बनाने की नाप – जोख चल ही रही थी कि इतने में दूसरी ओर से स्कूटर स्वामी भी बगल में खड़ा होकर देखने लगा कि आखिर यह लोग सरेआम बेफिक्र होकर मेरे स्कूटर से यह कैसी छेड़छाड़ कर रहे हैं ।

Tryed to steal a scooter : इन दो नाबालिग बच्चों की ऐसी हरकत से हो गए सब सन्न ! भरी दोपहरी में आखिर क्या कर डाला इन दो बच्चों ने ऐसा जिससे सबके मुंह निकला एक साथ .... हाय राम ..! Raj Kaushik New Era photo . Youth icon award report . Shashi bhushan maithani paras

कुछ देर तक वह देखता रहा फिर उसने अगल – बगल एक दो लोगों के कान में फुस-फसाया कि यह स्कूटर तो मेरा है पर ये लोग क्यों इसे ठोक पीट रहे हैं । पहली बार में शायद उसे यह लगा कोई पुलिस वाला आए हैं और वह गलत पार्क होने के कारण इसे उठा रहे हैं । अब हिम्मत करके चाबी बनाने वाले से पूछा लिया गया कि आप ये क्या कर रहे हो ….?

तो वो बोला…. बाबू जी , क्या बताएं आजकल के बच्चे भी पता नहीं … अब ये बच्चे ही देख लो घर से इस स्कूटर को ले आए और चाबी कहीं गिरा आए । अब डर रहे हैं कि घर कैसे जाएं माँ बाप डाँटेंगे मारेगे …!
स्कूटर स्वामी के मुंह से निकाला … हंईं … ये क्या ..?
अबे ये तो मेरा स्कूटर है …

Tryed to steal a scooter : इन दो नाबालिग बच्चों की ऐसी हरकत से हो गए सब सन्न ! भरी दोपहरी में आखिर क्या कर डाला इन दो बच्चों ने ऐसा जिससे सबके मुंह निकला एक साथ .... हाय राम ..! Raj Kaushik New Era photo . Youth icon award report . Shashi bhushan maithani paras

यह सुनते ही शैतान बच्चे भागने लगे तो लोगों ने उन्हें दबोच दिया और उसके बाद इनके साथ वही सब किया गया जो पूरे भारत में कभी भी कहीं भी भीड़ तंत्र के हाथों गैर-कानूनी रूप से होता है । मतलब कि दोनों को खूब धोया गया .. जिसकी मर्जी आई उसने की दोनों की खूब धुलाई ।

इनकी मासूमियत के तो क्या कहने :

लेकिन अब ज़रा चोर बच्चों की मासूमियत तो देखिये जब लोग यह कहने लगे कि अब इन्हें पुलिस के हवाले करो तो दोनों बोले भैय्या पहले उस चाबी वाले अंकल के पैसे तो दे दो ….. गुस्से से लाल पीले लोगों ने जब यह सुना सबके सब एक साथ ठण्डे पड़ गए ।

अब ऐसी घटनाओं को क्या नाम दिया जाय । जिसमें मासूमियत , शरारत और हिमाकत के साथ जुर्म की सीढ़ियाँ ये नई पीढियां तैयार करने जा रही हैं ।

देखने से दोनों बच्चे अच्छे घरों से हैं लेकिन यह स्पष्ट हुआ कि इन्हें दिए जा रहे संस्कार तो बिल्कुल भी अच्छे नहीं हैं । इसलिए सावधान रहें पालनहार ! आप बच्चों को दें खूब प्यार व दुलार । लेकिन उससे भी बढकर है पहले देना मजबूत संस्कार । यही असली पूंजी है उसे बचाइये जिससे बच्चों का भविष्य सुधरेगा और आपकी इज्जत बढ़ेगी ।

हम भी निभाते हैं अपनी जिम्मेदारी :

हम भी चाहते तो उदण्डता करते ! क़ानून को नक्कारते ! इन दोनों बच्चों की फोटो या वीडियो भी उनके असली नाम व पते के साथ इस पोस्ट के बराबर में नत्थी कर अपने सम्मानित पाठकों को दिखा सकते थे । लेकिन हमें यह भी हमेशा याद रखना है कि हम भी अपने भारतीय संस्कारों में बंधे हैं । हमारे अभिभावक समान मार्गदर्शक माननीय न्यायालय का स्पष्ट निर्देश हैं की किसी भी नाबालिग बच्चे या महिला के चित्रों को कभी भी सार्वजनिक न किया जाए । अगर कोई मीडिया संस्थान कभी आपको ऐसा करता हुआ दिखे तो आप तुरन्त उनकी शिकायत दर्ज करें ।

स्क्रिप्ट : शशि भूषण मैठाणी ‘पारस’

सोर्स : राज कौशिक, फोटो वीडियो एडिटर यूथ आइकॉन मीडिया । 
आँखों देखी कानों सुनी घटना प्रत्यक्षदर्शी

Youth icon Yi Media Award logo . यूथ आइकॉन वाई आई मीडिया अवार्ड लोगो । shashi bhushan maithani paras . शशि भूषण मैठाणी पारस . uttarakhand । उत्तराखंड

Tried to steal a scooter : इन दो नाबालिग बच्चों की ऐसी हरकत से हो गए सब सन्न ! भरी दोपहरी में आखिर क्या कर डाला इन दो बच्चों ने ऐसा जिससे सबके मुंह निकला एक साथ …. हाय राम ..! Raj Kaushik

By Editor