Youth icon Yi National Creative Media Report
Youth icon Yi National Creative Media Report

Udta Uttrakhand : निशानें पर स्कूल, कालेज, हास्टल  । उड़ता उत्तराखंड ….!

Report By: Rajan Mishra, Youth icon Yi Report
Report By: Rajan Mishra,
Youth icon Yi Report

*एक पूरी पीढी खड़ी है बराबादी की कगार पर । 

*हर साल बढ़ता जा रहा है ड्रग्स का काला करोबार । 

*तस्तरों के निशानें पर हैं स्कूल-कालेज से लेकर हास्टल  । 

*अभिभावकों को सावधान रहने की है जरूरत, पढ़ाई के बहाने घर  से दूर रहने वाले बच्चों की निगरानी बराबर होनी चाहिए । 

बीते कई समय से जिसका ड़र सता रहा था आखिर वही हो रहा है। हमारे समाज की एक पूरी पीढी बरबादी के मुहानें पर खड़ी खुद को बचानें की गुहार लगा रही है। प्रदेश के कोने-कोने से सैकड़ो नही अब हजारों मामले स्मैक या ड्रग्स के सामनें आ रहे है। यही नही बीते 1-2 वर्षों में किशोरियों और लड़कियों में इसका प्रभाव में बेतहाशा वृद्धि नें विषय को और चिन्ताजनक वना दिया है।

देहरादून, श्रीनगर(गढ़वाल), कोटद्वार और कर्णप्रयाग समेत अब ड्रग्स से संबन्धित मामले पहाडो की वादियों में भी सुनने को मिल रहे है। जिसमें सबसे ताजा मामसा देहरादून का है।

देवभूमि में तेजी फल फूल रहा है नशे का अवैध कारोबार । माता-पिता को है सावधान रहने की जरूरत । अगर बच्चे घर से दूर होंस्टिल , पीजी या किराए के कमरों में रह रहे हैं तो बराबर करते रहें निगरानी । पेरेंट्स को चाहिए कि वह घर से दूर रहने वाले बच्चों के ठिकानों पर कर सरप्राईज़ विजिट ।
देवभूमि में तेजी फल फूल रहा है नशे का अवैध कारोबार ।
माता-पिता को है सावधान रहने की जरूरत । अगर बच्चे घर से दूर होंस्टिल , पीजी या किराए के कमरों में रह रहे हैं तो बराबर करते रहें निगरानी । पेरेंट्स को चाहिए कि वह घर से दूर रहने वाले बच्चों के ठिकानों पर कर सरप्राईज़ विजिट ।

देहरादून में मादक पदार्थों का कारोबार सबसे अधिक तेजी से फल फूल रहा है। कई शिक्षण संस्थानों के चलते तस्करों के लिए देहरादून एक बड़ा बाजार बनता जा रहा है।

यहा इस काले कारोबार में लगे तस्करों और सप्लायरों के हौसले इस कदर बुलंद हो चुके  है कि अब इन्हे खाकी के गिरेबान पर भी हाथ ड़ालनें से डर नही लगता ।ताजा मामला  विकासनगर के मेहूंवाला में मादक पदार्थ जब्त करने गई पुलिस की टीम पर हुआ हमला उड़ते दून में गंभीर होते हालात बयां करने के लिए काफी है। वही श्रीनगर गढ़वाल में भी कुछ समय पहले पुलिस को हथ्थे लगे दो युवको ने खुले तौर पर इस बात को पुलिस के सामनें कबूला था कि उससे करीब 30 से अधिक छात्र ड्रग्स खरीदते है। उसनें यहा तक बताया कि उसके सभी खरीदार छात्र-छात्राएं है। यही नही कोटद्वार में तो अब हजारो परिवार अपनें किशोरों के भविष्य को लेकर सड़को पर आनें लगे है।

 यह वाकही बहुत बड़ी समस्या है । अकेले देहरादून में ही कई शिकायतें हमें मिली हैं और समय-समय पर हमारी भिन्न-भिन्न पुलिस दस्तों ने ऐसे लोगों को दबोचा भी है जो अपने स्वार्थ के लिए युवा पीढ़ी को बर्बादी की ओर धकेल रहे हैं । नशे पर काबू पाने के लिए हमने उत्तराखंड पुलिस का विशेष एप भी बनाया है । आम आदमी एप के मार्फत हमसे जुड़ सकता है । और अगर कहीं उसके आसपास नशे का कारोबार चल रहा हो तो वह तत्काल पुलिस को जानकारी दे सकते हैं शिकायतककर्ता का नाम गोपनीय रखा जाता है । डा0 सदानंद दाते , वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक देहरादून ।
यह वाकही बहुत बड़ी समस्या है । अकेले देहरादून में ही कई शिकायतें हमें मिली हैं और समय-समय पर हमारे  भिन्न-भिन्न पुलिस दस्तों ने ऐसे लोगों को दबोचा भी है जो अपने स्वार्थ के लिए युवा पीढ़ी को बर्बादी की ओर धकेल रहे हैं । नशे पर काबू पाने के लिए हमने उत्तराखंड पुलिस का विशेष एप भी बनाया है । आम आदमी इस एप के मार्फत हमसे जुड़ सकता है । और अगर कहीं उनके आसपास नशे का कारोबार चल रहा हो तो वह तत्काल पुलिस को जानकारी दे सकते हैं, शिकायतककर्ता का नाम गोपनीय रखा जाता है ।
डा0 सदानंद दाते , वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक देहरादून ।

हाल के वर्षों में करोड़ों के इस कारोबार में तीन गुने तक का इजाफा हुआ है।

आंकड़ो पर गौर करें तो पिछले साल जनवरी से लेकर मई तक 19.30 लाख रूपये कीमत का ड्रग्स बरामद हुआ था, वहीं इस साल यह आंकड़ा 80 लाख रूपय से अधिक पहुंच गया है।

हालांकि, यह मादक पदार्थों की वह खेप है जो पुलिस के हाथ लगी। अगर सूत्रों की मानें तो दून शहर में से राज्य के पर्वतीय इलाकों तक फैले मादक पदार्थों का काला कारोबार करोड़ो रूपये तक पहुंच गया है।

पूरे प्रदेश में हालत यह है कि यहां तराई का हर वो इलाका जहां पहाड़ से पलायन कर लोग बेहतर शिक्षा के लिए अपनें परिवार के साथ बसे है हर वो इलाका ड्रग्स का गढ़ बनता जा रहा है।

तस्तरों के निशानें पर स्कूल-कालेज से लेकर हास्टल तक है, यहां हर रोज मादक पदार्थों की खेप बेरोक-टोक पहुंच रही है। प्रदेश में नशे के सामान की खेप पश्र्चिमी उत्तर प्रदेश और पंजाब के रास्ते हर रोज पहुंचाई जा रही है।

नशे के खिलाफ प्रदेश भर में चल रहे अभियान के  दौरान पिछले दिनों आधा दर्जन ऐसे ड्रग डीलर पकड़े गए जो केवल स्कूल-कालेजों में ही ड्रग्स सप्लाई करते थे। इसमें बस कंडक्टर से लेकर वाहन चालक तक शामिल है ।

इस वर्ष 2016 में बरामद हुआ ड्रग्स : 

*चरस-18.69किग्रा-18.69लाख

*स्मैक-462.29ग्राम-46.22लाख

*गांजा-43.87किग्रा-43हजार

*अफीम132किग्रा-26.52लाख

*राजन मिश्रा      

Copyright: Youth icon Yi National Media, 22.07.2016

यदि आपके पास भी है कोई खास खबर तो, हम तक भिजवाएं । मेल आई. डी. है – shashibhushan.maithani@gmail.com   मोबाइल नंबर – 7060214681 , 9756838527  और आप हमें यूथ आइकॉन के फेसबुक पेज पर भी फॉलो का सकते हैं ।  हमारा फेसबुक पेज लिंक है  –  https://www.facebook.com/YOUTH-ICON-Yi-National-Award-167038483378621/

यूथ  आइकॉन : हम न किसी से आगे हैं, और न ही किसी से पीछे ।

By Editor

3 thoughts on “Udta Uttrakhand : उनके निशानें पर हैं स्कूल, कालेज व हास्टल । उड़ रहा है उत्तराखंड ….!”
  1. ये कैसी हवा चली मेरे शहर में
    ये किसकी नजर लगी मेरे शहर को
    कही हम खुद ही तो नहीं जिम्मेदार इसके
    खुद ही ढूंढे इसके इलाज को
    समाज मुझसे है और मै समाज से
    चलो फिर पहल करे कुछ
    नया करे विचार को
    और बचाले अपने ही नव निर्माण को

  2. समाज और पुलिस सभी की जिम्मेदारी है – कहीं उत्तराखंड दूसरा पंजाब ना बन जाय। मामले को उठाने के लिए YouthIcon को धन्यवाद।

Comments are closed.