IMG_20160305_141750उत्तराखंड, 5 मार्च 2016 ।

  • मौसम के बदले मिजाज से किसाने को हो सकता है भारी नुकशान ।
  • फलदार पेड़ फूलों से हैं लदकद ।
  • आँधी तूफान या ओला वृष्टि होती है तो हो सकता है काश्तकारों को बड़ा नुकशान ।

सर्दियों में अचानक से चढ़े पारे ने लोगों को पिछले कई दिनों से हैरान परेशान किया हुआ है । लेकिन अब मौसम विभाग की भविष्य वाणी पर यकीन करें तो आज से देवभूमि में आसमान पर बादलों का डेरा जमा रहेगा । और शाम होते ही तेज  धूलभरी आंधी चलने की भी आशंका जताई गई है । जबकि कल 6 फ़रवरी से राज्य के अधिकाँश हिस्सों में बारिश  होने की संभावना भी जताई गई है । अब अगर मैदानी क्षेत्रों में बारिश होगी और पहाड़ी अंचलों में बर्फ की सफ़ेद चादर बिछेगी  तो निःसंदेह आम जनमानस को सर्दी में आई अचानक गर्मी से राहत मिलेगी व  काश्तकारों को भी इसका लाभ भी मिलेगा ।

हालाँकि आधे दिन  से  ही मौसम विभाग की घोषणा के अनुरूप वाकही दून के आसमान पर तो काले बादलों ने डेरा जमा दिया है । लेकिन अभी भी दिन का  तापमान  24° के पार बना हुआ है ।

मौसम मे आ रहे इस बदलाव के चलते अगले एक दो दिनों तक देहरादून सहित समूचे उत्तराखंड में बारिश के कारण तापमान मे जबर्दस्त गिरावट आने की संभावना है जिससे मौसम भी खुशनुमा हो जाएगा । मौसम की जानकारी निदेशक विक्रम सिंह ने ने एक बयान जारी कर दी है । श्री  सिंह ने अपने बयान मे बताया है कि आज शाम से तेज धूलभरी आँधी , ओला वृष्टि ,  बारिश और पहाड़ों पर वर्फ़वारी  की भी प्रबल  सम्भावना बनी हुई है । जहां एक ओर बारिश और बर्फवारी अमजनमांस को राहत दे सकती है वहीं तेज तूफान काश्तकारों को भारी आफत का सबब बन सकता है ।

  • शशि भूषण मैठाणी ‘पारस’

By Editor