Anil Dhasmana – new RAW chief : आज भी अपनी जड़ो से जूड़े है रॉ के चीफ , पैतृक गांव में खुशी  का माहौल ।

Jitendra Joshi,
Satpuli Pauri
Anil Dhasmana – new RAW chief

सतपुली, अनिल धस्माना को रिसर्च एंड एनालिसिस विंग ‘रॉ’ का चीफ बनाए जाने की घोषणा के बाद से जयहरीखाल ब्लॉक के उनके पैतृक गांव तोली मे ग्रामीणो की खुशी देखते ही बन रही है । विश्वप्रसिद्ध योगसाधक स्वामी राम की जन्मस्थली से निकले एक और बेटे ने तोली के साथ साथ पूरे सूबे का नाम रोशन किया है ।   तोली गांव में एविएशन ऑफिसर महेशानंद के सात बच्चो में सबसे बड़े पुत्र अनिल की कुशाग्र बुद्धि के सब कायल तो थे पर अनिल ने तो कामयाबी की नई दास्तां ही गढ़ दी ।
प्राथमिक शिक्षा के दौरान अनिल धस्मना के शिक्षक रहे शशिधर धस्माना बताते है कि उनको यकीन था कि विलक्षण प्रतिभा का धनी अनिल एक दिन पूरे देश का नाम रोशन करेगा । वयोवृद्ध शिक्षक ने बताया कि पढ़ाई में अव्वल अनिल धस्माना को उस समय 300 रु का वजिफा भी मिलता था । अनिल धस्माना के चचेरे भाई राजीव धस्माना ने बताया बडे़ भाई लगातार कामयाबी हासिल करने के बावजूद आज भी गांव से जुड़े़े है और धार्मिक अनुष्ठानो व शादी ब्याह में लगातार शिरकत करते रहते है । ताड़केश्वर महादेव के महंत टीटू पंथवाल ने बताया कि स्वभाव से अत्यंत सरल अनिल धस्माना

अनिल धस्माना का पुस्तेनी मकान आज भी उनका इस घर में बराबर आना जाना बदस्तूर जारी है ।

धार्मिक प्रवृति के मनुष्य है । मंहत पंथवाल ने बताया कि 1981 में इंदौर (मध्यप्रदेश) में बतौर एसपी अपनी पहली नियुक्ति पर धस्माना सबसे पहले ताड़केश्वर धाम पहुंचे थे । शिक्षक पं्रशात धस्माना ने बताया कि माध्यम वर्गीय परिवार में जन्मे अनिल ने आंठवी तक राईकॉ दुधारखाल शिक्षा प्राप्त कि उसके बाद वे दिल्ली में बस गए । प्रशांत धस्माना ने बताया कि तोली गांव के सपूतो ने सुरक्षा, शिक्षा, स्वास्थ्य, अध्यात्म सहित सभी क्षेत्रो में अपना लोहा मनवाया है ।

 

Copyright: Youth icon Yi National Media, 19.12.2016

यदि आपके पास भी है कोई खास जानकारी तोहम तक भिजवाएं । मेल आई. डी. है – shashibhushan.maithani@gmail.com   

मोबाइल नंबर – 7060214681 , 9756838527, 9412029205  और आप हमें यूथ आइकॉन के फेसबुक पेज पर भी फॉलो का सकते हैं ।  

हमारा फेसबुक पेज लिंक है  – https://www.facebook.com/YOUTH-ICON-Yi-National-Award-167038483378621/

यूथ  आइकॉन : हम न किसी से आगे हैं, और न ही किसी से पीछे । 

By Editor