Murda lauta : लौट आया मुर्दा ! ये लड़का 5 दिन पहले मर चुका था, (लिंक को क्लिक करें पढ़ें) घर में मचा था कोहराम ! हर कोई मना रहा था शोक लेकिन जब वो अचानक से वो लौट आया तो सभी लोग हो गए हैरान । फिर क्या हुआ ? आगे पढ़ें । youth icon media report Yi award . Shashi bhushan maithani . Mridul indaur MP bhopal

लौट आया मुर्दा ! ये लड़का 5 दिन पहले मर चुका था, घर में मचा था कोहराम ! हर कोई मना रहा था शोक लेकिन जब वो अचानक से वो लौट आया तो सभी लोग हो गए हैरान । फिर क्या हुआ ? आगे पढ़ें ।

 

 

स्क्रिप्ट : शशि भूषण मैठाणी ‘पारस’
स्रोत : अभिषेक सागर । भोपाल ।

Murda lauta : लौट आया मुर्दा ! ये लड़का 5 दिन पहले मर चुका था, (लिंक को क्लिक करें पढ़ें) घर में मचा था कोहराम ! हर कोई मना रहा था शोक लेकिन जब वो अचानक से वो लौट आया तो सभी लोग हो गए हैरान । फिर क्या हुआ ? आगे पढ़ें । youth icon media report Yi award . Shashi bhushan maithani . Mridul indaur MP bhopal
लौट आया यह युवक मृदुल । घर में मनाया जा रहा था शोक । 

जी हाँ यह बात 100% सच है । हम कोई सनसनी नहीं फैला रहे हैं और न ही हमारा सनसनी फैलाने का मकसद है । यह बाद सौ टका सच है कि पांच दिन पहले जिस युवक की मौत हो गई थी वह जब अचानक से लौट आया तो सभी लोग हैरान हो गए । जिसके बाद से इस पूरे इलाके के अलावा देशभर में यह खबर सुर्खियों में है । और यह मामला है मध्य प्रदेश के इंदौर का ।

बताया गया कि मृदुल नाम के इस युवक को उसी के दोस्तों के द्वारा मौत के घाट उतारा गया था । और यह मामला CCTV कैमरे में रिकार्ड भी हो गया है । बदमाशों ने मृदुल को मारकर एक 400 मीटर की खतरनाक गहरी खाई में फैंक भी दिया था । और यह सारा मामला त्रिकोणीय प्यार के से जुड़ा हुआ बताया जा रहा है ।

बहुत बेरहमी से मारा गया था मृदुल को :

Murda lauta : लौट आया मुर्दा ! ये लड़का 5 दिन पहले मर चुका था, (लिंक को क्लिक करें पढ़ें) घर में मचा था कोहराम ! हर कोई मना रहा था शोक लेकिन जब वो अचानक से वो लौट आया तो सभी लोग हो गए हैरान । फिर क्या हुआ ? आगे पढ़ें । youth icon media report Yi award . Shashi bhushan maithani . Mridul indaur MP bhopal

इंदौर के परदेशीपुरा से BSC का छात्र मृदुल 5 दिनों से गायब था । जो मूल रूप से शाहगढ़ सागर का रहने वाला था । और उसी क्षेत्र के तीन लड़कों ने प्रेम प्रसंग के चलते मृदुल को मारा । इन तीनों ने पहले मृदुल का अपहरण किया फिर उसे बुरी तरह मारा और बाद में इंदौर से लगभग 31 किलोमीटर दूर ले जाकर उदयपुर के मुवाराघाट में उसे रस्सियों से बांधकर 400 मीटर गहरी खाई में फेंक दिया था । इनकी हैवानियत यहीं पर नहीं रुकी मृदुल को पहाड़ी से फैंकने के बाद उसके शरीर पर ऊपर से बड़े बड़े पत्थरों की बरसात भी की । खाई में दफन हुए मृदुल को छोड़ तीनों आरोपी चुपचाप वापस लौट आए । घटना 7 जनवरी 2018 की थी तब से मृदुल के घर में शोक मनाया जा रहा था । क्योंकि मृदुल के अपहरण का वीडियो मिल चुका था ।

फिर जो हुआ उसने सबको चौंका दिया :

जवान बेटे के शोक में डूबे परिवार को पूरे 5 दिन बाद यानी कि 12 जनवरी 2018 के दिन जो खबर मिली उसने सबको चौंका दिया था । पुलिस अधीक्षक गोस्वामी और पुलिस अधिकारी प्रशांत चौबे ने शुक्रवार 13 जनवरी 2018 को बताया कि पुलिस के एक जवान को मुवाराघाट की गहरी खाई में करीब लगभग 1 किलोमीटर दूर झाड़ियों में कुछ कपड़े अटके दिखे तो उसने तत्काल आगे सूचना दी जिसके बाद एक टीम को खाई में उतारा गया । इस खाई में उतरना बहुत आसान काम नहीं था । जहां कपड़े दिखाई दे रहे थे वहां तक पहुंचने में पूरे 45 मिनट का समय लगा । कंपैल चौकी प्रभारी वीरेन्द्र सिंह सिकरवार ने मीडिया को बताया कि जब टीम मौके पर पहुंची तो वहां पर एक युवक पहाड़ी झरने के किनारे सूखे नाले में उल्टे मुंह गिरा पड़ा था । जैसे ही उसे सीधा लेटाया गया तो उसके मुंह से जोर जोर की हवा निकलने लगी । उसकी सांसे और धड़कने चल रही थी तुरन्त चिकित्सक को बुलाया गया जिसने युवक के जिंदा होने की पुष्टि की फिर तुरंत युवक को इंडेक्स मेडिकल कालेज के अस्पताल पहुंचाया गया । ग्रामीणों ने युवक की पहचान मृदुल के रूप में की जिसे 7 जनवरी को अगवा कर मारकर इस खाई में फेंका गया था ।

बुरी तरह से पिटाई के बाद रस्सियों से बांधकर गहरी खाई में फेंके जाने व फिर पत्थरों से कुचलने के बाद कैसे मृदुल बच गया :

इस रौंगटे खड़े कर देने वाली क्रूर घटना के बाद से क्या आम और खास सभी हैरान परेशान हैं । लेकिन उससे भी ज्यादा हैरत में डालने वाली बात यह कि, आखिर कैसे कोई इंसान इस तरह पीटे जाने के बाद फिर गहरी खाई में फेंके जाने के 5 दिन बाद भी भूखा प्यास जिंदा मिल गया । इस घटना के बाद से पुलिस प्रशासन व डॉक्टर भी हैरत में पड़ गए । डॉक्टरों का मानना है कि हो सकता है जब मृदुल को बदमाशों ने रस्सियों से बांधकर ऊंचाई से फैंका था तब शरीर बंधा होने के कारण वह बचाव में छटपटा नहीं सका और सीधे हवा में लुढ़कते हुए खाई में औंधे मुंह गिर गया और फिर बंधे होने के कारण कोई हरकत नहीं कर सका और उल्टा ही रह गया था । फिर उसके बाद तेज सर्दी के कारण तुरन्त उसके हाथ पैर भी जकड़ गए थे जिनसे उसका पेट, छाती, सभी कबर हो गए ।ठंड होने के कारण भी घाव जम गए होंगे जिस कारण ज्यादा खून नहीं बह सका । और घावों में किसी तरह का इंफेक्शन भी नहीं हो पाया । और दूसरी बात यह भी मृदुल की जान बचने के पीछे जो कारण रहा वह ये कि बदमाशों द्वारा बुरी तरह पिटे जाने के बाद भी उसके लीवर, दिल, फेफड़ों, किडनी जैसे महत्वपूर्ण अंग सुरक्षित बचे रहे । जिस कारण उसकी धड़कने जारी रही ।
लेकिन आज जिस तरह से यह घटना बताने या उस पर आसानी से राय दी जा रही है वह सच में उतना आसान भी नहीं है । इसलिए सारी दलीलों के बाद भी मृदुल का यूँ लौट आना सबको हैरत में डाल ही गया ।

ये हैं आरोपी जो अब हैं सलाखों के पीछे :

इस पूरी घटना का मास्टर माइंड था आकाश जिसकी उम्र महज 24 साल की है इसके पिता का नाम राजू रत्नाकर है जो कि क्वीन्स टावर नौलखा का रहने वाला है । बताया गया कि इसे संदेह था कि मृदुल उसकी गर्ल फ्रेंड से अक्सर बात करता है । इसलिए उसने अपने साथियों के साथ मिलकर हमेशा हमेशा के लिए मृदुल को रास्ते से हटाने की योजना तैयार कर ली थी । इस घटना के अन्य गुनहगारों में विजय जिसकी उम्र 20 वर्ष पुत्र राजवर परमार रहवासी राजदरा कंपाइल रोड । तीसरा आरोपी है 23 वर्षीय रोहित पुत्र सुरेश परेता निवासी कुशवाह नगर बाणगंगा । मुख्य आरोपी आकाश ने अपने इन दो साथियों के साथ एक स्विफ्ट कार से मृदुल का अपहरण कर लिया था । मृदुल के दोस्तों ने बताया कि उसे बदमाशों ने लड़की का चाचा बनकर बुलाया था । और फिर उन्होंने मृदुल का अपहरण कर लिया था । घटना के बाद पुलिस ने इलाके के CCTV कैमरों की पड़ताल की तो बदमाशों की सारी हरकतें पलासिया चौक के कैमरे में पकड़ी गई जिसमें आरोपियों की कार दिख गई जिसके सहारे फिर पुलिस आसानी से बदमाशों के ठिकाने पहुंचने में कामयाब हुई और फिर तीनों धर दबोचा ।

लेकिन जिस तरह से इस पूरी खौफनाक घटना के बाद बदमाशों के कहर का शिकार बना मृदुल मौत के मुंह से निकलकर वापस आ गया है उसने सभी को हैरत में डाल दिया है । ईलाके के लोग इसे किसी चमत्कार से कम नहीं मान रहे हैं । एक ग्रामीण राजेन्द्र ठाकुर के मुताबिक वह पहले भी खाई से 3 शवों को निकाल चुका है , परन्तु आज जिस तरह मृदुल का शरीर मिला वो भी 5 दिनों के बाद और जिंदा यह तो किसी आश्चर्य से कम नहीं है । क्योंकि यह बीहड़ और खतरनाक खाई है यहां से इस तरह से बचकर निकलने का मतलब है कि आप मौत को जीत चुके हो । सचमुच यह घटना चमत्कार ही है ।

स्क्रिप्ट : शशि भूषण मैठाणी ‘पारस’

Shashi Bhushan Maithani Paras 
स्रोत : अभिषेक सागर । भोपाल ।

By Editor