Towel craft art गन्दा मैला तौलिया पहुंचा जब ड्राइंगरूम में...! तौलिए को इस हाल में देख घर में बच्चों को यकीन ही नहीं हुआ । shashi bhushan maithani art शशि भूषण मैठाणी आर्ट यूथ आइकॉन youth icon

Youth icon yi media logo . Youth icon media . Shashi bhushan maithani paras

गन्दा मैला तौलिया पहुंचा जब ड्राइंगरूम में…! तौलिए को इस हाल में देख घर में बच्चों को यकीन ही नहीं हुआ ।

Towel craft art गन्दा मैला तौलिया पहुंचा जब ड्राइंगरूम में...! तौलिए को इस हाल में देख घर में बच्चों को यकीन ही नहीं हुआ । shashi bhushan maithani art शशि भूषण मैठाणी आर्ट यूथ आइकॉन youth icon

गंदा मैला कुचैला बदरंग हो चुका किचन के एक टॉवल को मैंने जब अपने ड्रॉईंग रूम में सजाया तो मेरी दोनों बेटियां मनस्विनी मैठाणी और यशस्विनी मैठाणी की खुशियों का ठिकाना न रहा । दोनों को यक़ीन नहीं हो रहा था कि गंदा हो चुका तौलिए को कैसे इस तरह सजाया जा सकता है । लेकिन उनके पास यक़ीन करने की वजह यह थी कि उनके पापा यानी मैंने उनके सामने ही इसे तैयार किया ।

Towel craft art गन्दा मैला तौलिया पहुंचा जब ड्राइंगरूम में...! तौलिए को इस हाल में देख घर में बच्चों को यकीन ही नहीं हुआ । shashi bhushan maithani art शशि भूषण मैठाणी आर्ट यूथ आइकॉन youth icon manasvini maithani , yashasvini maithani

बस इसके लिए मुझे नैपकिन (पेपर), फेविकॉल और कलर की जरूरत थी फटाफट बाजार गया तीनों चीज खरीद लाया और फिर शुरू किया अपना अभियान । चंद घंटों की मेहनत के बाद जो बनकर सामने आया वह अब तस्वीरों के जरिए वो आपके सामने एक खूबसूरत फ्लॉवर पॉट के रूप में हमारे ड्रॉईंग रूम की टेबल पर सजा खड़ा है । मेरा मानना है कि हम सब रचनात्मक बनें इससे मानसिक तनाव से छुटकारा भी मिलता है और बच्चों को भी आपके साथ ही घर में कुछ सीखने को मिल जाता है ।

Towel craft art गन्दा मैला तौलिया पहुंचा जब ड्राइंगरूम में...! तौलिए को इस हाल में देख घर में बच्चों को यकीन ही नहीं हुआ । shashi bhushan maithani art शशि भूषण मैठाणी आर्ट यूथ आइकॉन youth icon manasvini maithani , yashasvini maithani

अगर समय मिला तो जल्दी ही कुछ और सृजनात्मकता के साथ आपके सामने फिर प्रस्तुत करूँगा ऐसे ही कुछ नमूने । तब तक मेरे हाथ से बने गुलदस्ते को निहारिये । और बताइये कि क्या इसे रोजगार के साधन के तौर पर भी परखा जाना चाहिए या नहीं ।

Towel craft art गन्दा मैला तौलिया पहुंचा जब ड्राइंगरूम में...! तौलिए को इस हाल में देख घर में बच्चों को यकीन ही नहीं हुआ । shashi bhushan maithani art शशि भूषण मैठाणी आर्ट यूथ आइकॉन youth icon
शशि भूषण मैठाणी “पारस” 

फिलहाल अब आप अपने गंदे व पुराने हो चुके तौलिए फेंकने से पहले इस गुलदस्ते को जरूर ध्यान में रखियेगा । कहने का मतलब कि कोई भी वस्तु पुरानी होकर खराब नहीं होती है बस थोड़ा उस पर ध्यान लगाने की जरूरत होती है ।

अब सच – सच बताइये आप सबको कैसी लगी मेरी आज की यह रचना । 😊😊

पत्रकार से पहले छोटा सा कलाकार भी हूँ मैं ।

आर्ट : शशि भूषण मैठाणी पारस
Shashi Bhushan Maithani Paras
9756838527
7060214681

By Editor

2 thoughts on “गन्दा मैला तौलिया पहुंचा जब ड्राइंगरूम में…! तौलिए को इस हाल में देख घर में बच्चों को यकीन ही नहीं हुआ ।”
  1. आप जन्म से रचनात्मक प्रकृति के इंसान है आपके रचनात्मक व्यक्तित्व की छाप आपकी बेटियों पर जरूर पड़ेगी साथ ही अन्य लोगो को भी प्रेरणा मिलेगी।
    जैसे आपने फेविकोल का इस्तेमाल किया है ऐसे ही सीमेंट के प्रयोग से गमला बनाने का सफल प्रयोग हम भी कर चुके है।
    अपने नए नए प्रयोगों से परिचित कराते रहियेगा।

Comments are closed.