Rare Himalayan Fox in kedarnath Uttarakhand : लौट आई वो ! केदारनाथ की भीषण आपदा में वो गायब हो गई थी, अब कई सालों बाद जब वो दिखी तो उसके चाहने वालों के चेहरों पर लौट आई है रौनक । youth icon yi meda award report . shashi bhushan Maithani paras . Rudraprayag . Gopeshwar . Chamoli . Badrinath

Rare Himalayan Fox in kedarnath Uttarakhand : लौट आई वो ! केदारनाथ की भीषण आपदा में वो गायब हो गई थी, अब कई सालों बाद जब वो दिखी तो उसके चाहने वालों के चेहरों पर लौट आई है रौनक ।

उत्तराखण्ड के केदार हिमालय क्षेत्र में आई वो अब तक की सबसे विभत्स और भीषण प्राकृतिक आपदा रही । जो हमेशा, हमेशा के लिए एक काले इतिहास के पन्नों में दर्ज हो गई है । जून 2013 में केदारनाथ की वह आपदा कईयों पर मुसीबत बनकर टूटी थी । हजारों जाने चली गई थी और हजारों लापता हो गए जिन्हें खोजने या देखने के लिए आज भी लोगों को में आस बनी हुई है ।

केदारनाथ आपदा में हजारों की संख्या में लोगों की जाने गई थी और कई लोग अपनों से अलग थलग होकर बिछुड़ भी गए थे । और यह आफत की आपदा सिर्फ इंसानो पर ही नहीं बल्कि बेजुबान जानवरों पर भारी मुसीबत बनकर टूटी थी । जिससे उच्च हिमालय की बर्फ़ीली चोटियों पर विचरण करने वाले कई विलक्षण प्रजातियों के समाप्त होने की आशंका भी जताई जा रही थी ।
लेकिन अब लंबे समय बाद केदार हिमालय से उम्मीद भरी शानदार खबर आई है । और वह भी पुख्ता प्रमाण के साथ । जी हाँ …… 

Rare Himalayan Fox in kedarnath Uttarakhand : लौट आई वो ! केदारनाथ की भीषण आपदा में वो गायब हो गई थी, अब कई सालों बाद जब वो दिखी तो उसके चाहने वालों के चेहरों पर लौट आई है रौनक । youth icon yi meda award report . shashi bhushan Maithani paras . Rudraprayag . Gopeshwar . Chamoli . Badrinath
Rare Himalayan Fox in kedarnath Uttarakhand : लौट आई वो ! केदारनाथ की भीषण आपदा में वो गायब हो गई थी, अब कई सालों बाद जब वो दिखी तो उसके चाहने वालों के चेहरों पर लौट आई है रौनक । 

यह खबर वन्यजीव प्रेमियों के चेहरों पर मुस्कान लौटा देने वाली है । क्योंकि केदारनाथ में लौट आई है हिमालयी लोमड़ी । हालांकि यह दुर्लभ प्रजाति की लोमड़ी को 2016 में भी केदारनाथ में देखे जाने का दावा किया गया लेकिन उसके किसी के पास प्रमाण नहीं थे । लेकिन इस बार चालाक लोमड़ी की नटखट हरकतें पकड़ी गई है । उच्च हिमालय में घूमने वाली यह लोमड़ी रेड फॉक्स नाम से भी जानी जाती है । यह 8 हजार फीट से ऊपर के ऊंचाई वाले हिमालयी क्षेत्रों में विचरण करती है । चटक सफेद रंग की बर्फ में खेलती कुददती रेड फॉक्स बेहद आकर्षक लगती है । इस दुर्लभ जीव को देख पाना बहुत आसान नहीं है । लेकिन इस बार केदारनाथ में यह हिमालयी जीव खूब देखा गया जो रिकार्ड हो गया वहां लगे CCTV कैमरों में । यह लोमड़ी बेहद ही दुर्लभ प्रजाति के वन्यजीवों की श्रेणी में दर्ज है । और माना जा रहा था कि आपदा के बाद सफेद लोमड़ी यह दुर्लभ प्रजाति अब हमेशा हमेशा के लिए लुप्त हो गई है । लेकिन 2 जनवरी 2018 की रात केदारधाम में बिछी बर्फ की सफेद चादर में खेलते कुददते हुए यह लोमड़ी वहां पुनःनिर्माण कार्यों की निगरानी में लगे CCTV कैमरों की रिकार्डिंग में दर्ज हो गई है । 

हालांकि निम के कर्मचारी व केदारनाथ वन्यजीव प्रभाग से जुड़े अधिकारी कर्मचारी बताते हैं कि बीते एक दो वर्ष से यह जीव केदारनाथ में फिर से देखा जाने लगा है । लेकिन इस बार कैमरे की रिकार्डिंग में इसकी 44 सेकंड तक स्पष्ट वीडियो क्लिप देखने को मिल रही है । अब इनकी संख्या के बारे मालूम करना बाकी है । वन्यजीव प्रेमियों व विशेषज्ञों ने आपदा के बाद पुनः इसकी मौजूदगी को एक सुखद संकेत माना है  । 

Rare Himalayan Fox in kedarnath Uttarakhand : लौट आई वो ! केदारनाथ की भीषण आपदा में वो गायब हो गई थी, अब कई सालों बाद जब वो दिखी तो उसके चाहने वालों के चेहरों पर लौट आई है रौनक । youth icon yi meda award report . shashi bhushan Maithani paras . Rudraprayag . Gopeshwar . Chamoli . Badrinath
Rare Himalayan Fox in kedarnath Uttarakhand :  अपनी खूबसूरत फ़र की वजह से यह रहती है शिकारियों के निशाने पर  । 

बताते चलें कि उच्च हिमालय क्षेत्र में पाई जाने वाली यह लोमड़ी बेहद ही दुलर्भ वन्य प्राणियों की श्रेणी में शामिल है । यह बादामी लाल रंग में मिश्रित होती है । इसे इसके रंग की वजह से रेड फॉक्स भी कहा जाता है । इसके शरीर पर मौजूद खूबसूरत व आकर्षक फर की वजह से यह शिकारियों के निशाने पर रहती है । इसकी फर बहुत बेशकीमती है । यही वजह है कि जिससे इसका शिकार हो जाता है, जिस कारण इसकी संख्या में भारी कमी आई है । लेकिन बतातें चलें कि भारत में कठोर कानून होने के कारण इस दुर्लभ वन्यजीव का शिकार नहीं किया जा सकता है ।  रेड फॉक्स भारत के उत्तराखंड, जम्मू-कश्मीर , हिमांचल प्रदेश, के अलावा पाकिस्तान व अफगानिस्तान में भी पाया जाता है । तथा तिब्बत में भी इसकी मौजूदगी है लेकिन वहां पर यह हल्के सफेद रंग में भी बताया जाता है ।

 

शशि भूषण मैठाणी ‘पारस’ SHASHI BHUSHAN MAITHANI PARAS

9756838527

By Editor